SarkariJobGuide Special Study Materials

Shorthand क्या होता है | आशुलिपि (Steno) के बारे में पूरी जानकारी हिंदी में

(स्टेनो) Shorthand क्या होता है और इसका क्या उपयोग होता है इसके बारे में बहुत कम लोगो को पता होगा है| यह भाषा सामान्य शब्दों को तेज गति से लिखने के लिए काम में ली जाती है| ज्यादातर पत्रकार लोग इस भाषा का उपयोग करते हैं क्योंकि शॉर्टहैंड तेज गति से लिखने के लिए सबसे ज्यादा अच्छी है| शॉर्टहैंड का उपयोग सरकारी दफ्तरों में भी होता है इसलिए शॉर्टहैंड सीखने वाले लोगों को सरकारी नौकरी के लिए आशुलिपिक पद पर अप्लाई जरूर करना चाहिए क्योंकि इस पद पर बहुत कम लोग आवेदन करते हैं|

Shorthand क्या होता है

ShortHand को हिंदी में आशुलिपि कहते हैं जो कि तेज गति से लिखने के लिए काम में ली जाती है इंसान के बोलने तक की स्पीड को शॉर्टहैंड के द्वारा तेज गति से लिखा जा सकता है शार्टहैंड, आशुलिपि और स्टेनो एक ही चीज होती है अरे हम अलग अलग नाम से बुला सकते हैं इसे लिखने वाले को हम स्टेनोग्राफर या आशुलिपिक कहते हैं

Steno के कुछ उदहारण :

short hand kya hia
Credit: sarkarijobguide.com

ऊपर आप यह एक फोटो देख सकते हैं देखने में यह फोटो बहुत अजीब लग रहा है पर यह जो लिखा है उसे शॉर्टहैंड कहा जाता है| लिखने की इस विधि को देखकर आप घबराएं नहीं, यह तरह की कला है जो कि आप भी सीख सकते हैं|

स्टेनोग्राफर कितने प्रकार के होते हैं

  1. हिंदी स्टेनोग्राफर जोकि हिंदी भाषा को तेज गति से स्टेनो में लिख सकते हैं|
  2. इंग्लिश स्टेनोग्राफर जो कि अंग्रेजी भाषा को स्टेनो में लिख सकते हैं

सरकारी नौकरी में Shorthand की जरुरत

हिंदी या इंग्लिश किसी भी भाषा में शॉर्टहैंड सीखने के बाद सरकारी नौकरी लगने के चांस ज्यादा होते हैं क्योंकि इन क्षेत्र में कंपटीशन कम होता है| राज्य स्तर पर और केंद्र स्तर पर स्टेनोग्राफर के सरकारी पद बहुत निकलते हैं| SSC खुद इन क्षेत्र में आवेदकों के लिए नोटिफिकेशन जारी करता है|
राज्य स्तर पर न्यायालय में स्टेनोग्राफर के पद निकलते हैं जोकि भाषाओं को तेज गति से लिखने के लिए बहुत जरूरी होता है

दूसरे क्षेत्रों में 10th और 12th pass करने के बाद नौकरी के लिए अप्लाई कर देते हैं और ऐसे में Compition बढ़ जाता है| स्टेनोग्राफर में आपको सबसे पहले स्टेनो और स्टेनो के साथ उसी भाषा में टाइपिंग भी सीखनी पड़ती है तब जाकर आप इस Stenographer पद के लिए कहां Apply कर सकते हैं

यहां पर एक बात जाना आपको बहुत ज्यादा जरुरी है अगर कोई हिंदी भाषा में स्टेनो सीख रहा है तो उसे Hindi भाषा की Typing भी आनी चाहिए
अगर कोई इंग्लिश भाषा की स्टेनो सीख रहा है तो उसको English में Typing आना जरूरी है

(आशुलिपि) ShortHand कहाँ सीखे

सबसे पहले आपको स्टेनो सीखना ही पड़ेगी यह आप अपने लोग कल में स्टेनो सिखाने वाले इंस्टिट्यूट से सीख सकते हैं ज्यादातर जो Institude टाइपिंग सिखाते हैं वही स्टेनो भी सिखा देते हैं यह अपने Institute पर निर्भर करता है| स्टेनोग्राफर बनने के लिए आपको स्टेनो की रेगुलर प्रैक्टिस करनी पड़ेगी|

जिन युवाओं की इच्छा सरकारी नौकरी करने की है। उनके लिए स्टेनोग्राफी एक अच्छा करियर विकल्प हो सकता है। यह 10वीं उत्तीर्ण करने के बाद स्टेनोग्राफी करियर का एक अच्छा क्षेत्र है। स्टेनोग्राफर के पद का वेतनमान आकर्षक होता है। यह कम खर्चीला भी होता है।

स्टेनोग्राफर पर कार्यालय या संस्था के गोपनीय रिकॉर्डों को संभालने का दायित्व रहता है| स्टेनोग्राफर अपने अधिकारी के प्रति विश्वनीय पद है। इस पद पर काम करना एक गरिमापूर्ण व चुनौतीपूर्ण है| अच्‍छी खासी तनख्वाह ऊपर से सरकारी नौकरी का रौब अलग। यही बातें हैं जो युवाओं को स्टेनोग्राफी की तरफ आकर्षित करती हैं, लेकिन इसमें कड़ी मेहनत की आवश्कता होती है।
स्टेनोग्राफी आशय होता है संक्षिप्त लेखन जिसे अंग्रेजी में शॉर्टहैंड कहा जाता है एक प्रकार की लेखन विधि होती है। हमारे देश में स्टेनोग्राफर के पद अदालतों, शासकीय कार्यालयों, मंत्रालयों, रेलवे विभागों में होते हैं। स्टेनोग्राफर का कोर्स करने के लिए कड़े परिश्रम की आवश्कता होती है, क्योंकि इस भाषा में शब्द गति होना आवश्यक है।

एक कुशल स्टेनोग्राफर बनने के लिए उस विषय की भाषा का व्याकरण का ज्ञान होना अत्यंत आवश्यक है| ‍स्टेनोग्राफर बनने के लिए 100 शब्द प्रति मिनट की गति उत्तीर्ण करना आवश्यक होता है| देश में विभिन्न संस्‍थाएं स्टेनोग्राफर के कोर्स करवाए जाते हैं। देश में औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थानों (आईटीआई) में भी स्टेनोग्राफर का एक वर्षीय कोर्स करवाया जाता है।
इन संस्थानों में 100 शब्द प्रति मिनट की गति से परीक्षाएं भी ली जाती हैं। इस परीक्षा को उत्तीर्ण करने के बाद आप स्टेनोग्राफर बन सकते हैं। सरकारी विभागों द्वारा विज्ञापनों में स्टेनोग्राफर की भर्तियां निकाली जाती हैं।

स्टेनोग्राफर के कोर्स आप इन संस्थानों से कर सकते हैं– पॉलिटेक्निक कॉलेजों में आधुनिक कार्यालय प्रबंधन या मॉडर्न ऑफिस मैनेजमेंट (एमओएम) के रूप में कोर्स करवाए जाते हैं। इसमें आशुलिपि के अलावा कम्प्यूटर, टंकण एवं लेखा से संबंधित कोर्स भी सम्मिलित है।
– राज्य के औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान(आईटीआई) में भी एक वर्षीय कोर्स करवाया जाता है।

स्टेनो से रिलेटेड सभी जानकारी हमने आपको को इस पोस्ट में दे दी हैं फिर भी अगर आप और कुछ जानना चाहते  हैं या आप के मन में इस जॉब्स से रिलेटेड कोई question हैं तो हमसे निचे दिए गए कमेंट बॉक्स के जरिये discuss कर सकते हैं www. sarkarijobguide.com पे education से रिलेटेड कोई भी जानकारी ले सकते हैं और हम इस वेबसाइट पे आपको आपकी मनपसंदीदा coaching की नोट्स भी provide कराते हैं 

कैसी लगी आपको ये Shorthand क्या होता है | आशुलिपि (Steno) के बारे में पूरी जानकारी हिंदी में की पोस्ट, हमें कमेन्ट के माध्यम से अवश्य बताये और आपको किस विषय की नोट्स चाहिए या किसी अन्य प्रकार की दिक्कत जिससे आपकी तैयारी पूर्ण न हो पा रही हो हमे बताये हम जल्द से जल्द वो आपके लिए लेकर आयेगे|

धन्यवाद——-

आप ये भी पड़ सकते है –

  1. CCC Course की पूरी जानकारी हिंदी में – Click Here
  2. “O” Level की पूरी जानकारी हिंदी में – Click Here
  3. CCC New Course Syllabus in hindiClick Here
  4. कौन क्या है GK – CLICK HERE

 

SarkariJobGuide.com का निर्माण केवल छात्र को शिक्षा (Educational) क्षेत्र से सम्बन्धित जानकारी उपलब्ध करने के लिए किया गया है, तथा इस पर उपलब्ध पुस्तक/Notes/PDF Material/Books का मालिक SarkariJobGuide.com नहीं है, न ही बनाया और न ही स्कैन किया है। हम सिर्फ Internet पर पहले से उपलब्ध Link और Material प्रदान करते हैं। यदि किसी भी तरह से यह कानून का उल्लंघन करता है या कोई समस्या है तो कृपया हमें Mail करें SarkariJobGuide@gmail.com पर

ये भी पढ़ सकते है-

  1. UP TET 2019 का परीक्षा पाठ्यक्रम हिंदी में– CLICK HERE
  2. UP TET एग्जाम की तैयारी कैसे करेClick Here
  3. CTET 2019: सिलेबस अथवा एग्ज़ाम पैटर्न– Click Here

सवाल / सुझाव

Leave a Comment

error: Content is protected !!