fbpx
SarkariJobGuide Special Syllabus

UP TET 2019 का परीक्षा पाठ्यक्रम हिंदी में

UPTET 2019 का परीक्षा पाठ्यक्रम हिंदी में -Hello Friend’s एक बार फिर आप सभी का स्वागत है SarkariJobGuide के इस NOTES & SYLLABUS के सेक्शन में जहाँ आपकी अपनी Team यानि SarkariJobGuide की प्रतिदिन कोई न कोई ऐसे NOTES लेकर आती है जो सीधे-सीधे आपकी आने वाली परीक्षाओ से सम्बन्धित होती है|

यू.पी.टी.ई.टी. का आयोजन उत्तर प्रदेश बेसिक शिक्षा बोर्ड (यू.पी.बी.ई.बी) द्वारा किया जाता है। इस परीक्षा के द्वारा उत्तर प्रदेश के विद्यालयों में प्राथमिक और उच्च प्राथमिक स्तर के शिक्षकों की भर्ती की जाती है। यू.पी.बी.ई.बी द्वारा यह परीक्षा प्रत्येक वर्ष आयोजित की जाती है और इसी बोर्ड द्वारा परीक्षा के लिए पाठ्यक्रम का निर्धारण भी किया जाता है। पिछले कुछ वर्षों में हुई इस परीक्षा के पाठ्यक्रम का मूल्यांकन किया जाए तो यह पता लगता है कि यू.पी.टी.ई.टी. का पाठ्यक्रम कई वर्षों में एक समान रहा है। यू.पी.टी.ई.टी. की परीक्षा 18 नवंबर 2019 को होने की उम्मीद है।

यू.पी.टी.ई.टी. का आयोजन दो चरणों में किया जाता है। अभ्यर्थी अपनी योग्यता के अनुसार एक या फिर दोनों परीक्षाओं में शामिल हो सकते हैं। पहले चरण के तहत पेपर 1 की परीक्षा ली जाती है। इस परीक्षा के जरिए प्राथमिक स्तर अर्थात कक्षा 1 से कक्षा 5 तक के लिए शिक्षकों की भर्ती की जाती है। इसी तरह दूसरे चरण के तहत पेपर 2 की परीक्षा ली जाती है। इसमें पास अभ्यर्थी उच्च प्राथमिक स्तर अर्थात् कक्षा 6 से 8 के छात्रों को पढ़ाते हैं।

  • दोनों पेपर की परीक्षा एक ही दिन आयोजित की जाती है और यह बोर्ड के विवेक पर निर्भर करता है कि पहली पाली में कौन से पेपर की परीक्षा ली जाए।
  • यू.पी.टी.ई.टी. के दोनों पेपर के लिए यू.पी.बी.ई.बी. द्वारा अलग पाठ्यक्रम का निर्धारण किया जाता है, जिसकी पूरी जानकारी नीचे दी जा रही है-
  1. पेपर 1 के लिए पाठ्यक्रम बाल विकास, लर्निंग एवं शिक्षा शास्त्र, भाषा 1 एवं भाषा 2, गणित और पर्यावरण अध्ययन पर आधारित होते हैं।
  2. पेपर 2 का पाठ्यक्रम बाल विकास, लर्निंग एवं शिक्षा शास्त्र, भाषा 1 एवं भाषा 2, गणित या सामाजिक अध्ययन से संबंधित होता है।
  3. प्रत्येक पेपर में 150 वस्तुनिष्ठ प्रश्न पूछे जाते हैं।

सभी छात्र इस परीक्षा को उत्तीर्ण करें और अधिकतम अंक लाएं, इसके लिए योजनाबद्ध तरीके से पढ़ाई करने की जरूरत है। इसलिए हम आपतक यू.पी.टी.ई.टी. पाठ्यक्रम एवं परीक्षा पैटर्न की पूरी जानकारी आपतक पहुंचा रहे हैं।

यू.पी.टी.ई.टी. 2019 का परीक्षा पैटर्न

यू.पी.टी.ई.टी. के दोनों पेपर का पैटर्न लगभग समान होता है, लेकिन इसके अनुभागों एवं कठिनाई के स्तर में अंतर होता है। पेपर 1 और पेपर 2 के परीक्षा पैटर्न की मुख्य जानकारी नीचे की तालिका में दी गई हैं:-

यू.पी.टी.ई.टी. 2019परीक्षा पैटर्न
परीक्षा की संख्यापेपर I (प्राथमिक स्तर) पेपर II (उच्च प्राथमिक स्तर)
परीक्षा का माध्यमऑफ़लाइन
प्रश्नों के प्रकारवस्तुनिष्ठ
कुल प्रश्नों के अंक150
कुल प्रश्नों की संख्या150
यू.पी.टी.ई.टी. परीक्षा में अंक देने की व्यवस्थाप्रत्येक सही जवाब के लिए 1 अंक। नकारात्मक अंकन नहीं होता है।
परीक्षा के लिए निर्धारित समय2 घंटे 30 मिनट
परीक्षा की भाषाअंग्रेजी एवं हिंदी
यू.पी.टी.ई.टी. 2019 के पेपर 1 का पाठ्यक्रम
  • यू.पी.टी.ई.टी. के पेपर 1 का प्रश्न कक्षा 1 से 5 तक के विषयों जैसे- लर्निंग एवं शिक्षा मनोविज्ञान के आधार पर तैयार किए जाते हैं।
  • इस पेपर के तहत विविध शिक्षार्थियों की विशेषताओं, उनकी जरूरतों को समझने का ज्ञान तथा शिक्षार्थियों के साथ व्यवहार-बातचीत के साथ—साथ उन्हें पढ़ाने-सीखाने संबंधी अभ्यर्थियों की गुणों की जांच की जाती है।
  • यू.पी.टी.ई.टी. का पाठ्यक्रम 1 से 5 तक की कक्षा की एन.सी.ई.आर.टी. की पुस्तकों के आधार पर तैयार की जाती है।
  • गणित और ई.वी.एस. के प्रश्नों द्वारा अभ्यर्थी की अवधारणाओं और विषय को समझने की क्षमता की जांच की जाती है।
  • भाषा से संबंधित प्रश्नों द्वारा परिक्षार्थियों के अध्यापन कला का परीक्षण किया जाता है।
  • पेपर 1 की परीक्षा में इन अनुभागों से प्रश्न पूछे जाते हैं-
अनुभागप्रश्नों की कुल संख्याकुल अंक
बाल विकास, लर्निंग एवं शिक्षा शास्त्र30 प्रश्न30 अंक
प्रथम भाषा (हिंदी)30 प्रश्न30 अंक
दूसरी भाषा (अंग्रेजी, उर्दू और संस्कृत से कोई भी)30 प्रश्न30 अंक
 गणित30 प्रश्न30 अंक
पर्यावरण अध्ययन30 प्रश्न30 अंक
बाल विकास और शिक्षा शास्त्र विषय के लिए यू.पी.टी.ई.टी. का पाठ्यक्रम
  • बाल विकास (प्राथमिक स्कूल स्तरीय) (15 प्रश्न)
  • समावेशी शिक्षा की संकल्पना और विशेष आवश्यकता वाले बच्चों को समझना (5 प्रश्न)
  • लर्निग एवं शिक्षा शास्त्र (15 प्रश्न)

यूनिटविषयअंक
1बाल विकास: विकास की अवधारणा, सिद्धांत और विकास के आयामों की संकल्पना। स्नेह विकास के कारक (विशेषकर परिवार और विद्यालय के संदर्भ में) और इससे संबंधित आनुवंशिकता और पर्यावरण की भूमिका।06
2सीखने एवं व्यवस्था का ज्ञान एवं इसकी संकल्पना। स्नेह विकास के कारक, सिद्धांत और इसके निहितार्थ जैसे- बच्चे कैसे सीखते, सोचते प्रेरणा लेते हैं और प्रभावित होते हैं।06
3व्यक्तिगत मतभेद का ज्ञान, प्रकार और कारक। व्यक्तिगत प्रतिभा, मतभेद, भाषा, लिंग, समुदाय, जाति और धर्म के आधार पर व्यक्तिगत मतभेदों को समझना। व्यक्तित्व: संकल्पना और व्यक्तित्व के प्रकार एवं इसे आकार देने के लिए जिम्मेदार कारक एवं इसका मूल्यांकन। बौद्धिक क्षमता: संकल्पना, सिद्धांत और इसके माप, बहुआयामी बौद्धिक क्षमता की पहचान।06
4विविध शिक्षार्थियों को समझना। छात्रों का पिछड़ापन. मानसिक रूप से कमजोर छात्र, प्रतिभाशाली छात्र, रचनात्मक छात्र, वंचित छात्र एवं विशेष रूप से सक्षम छात्र, सीखने से संबंधित कठिनाइयां। समायोजन: संकल्पना और समायोजन के तरीके। समायोजन में शिक्षक की भूमिका।06
5शिक्षण की प्रक्रियाः राष्ट्रीय पाठ्यचर्या अधिनियम 2005 के संदर्भ में शिक्षण संबंधी रणनीतियों और विधियों का अध्ययन। आंकलन, मापन और मूल्यांकन के अर्थ और उद्देश्य। व्यापक और निरंतर मूल्यांकन तथा उपलब्धि टेस्ट। शिक्षा का अधिकार अधिनियम 2009 (शिक्षक की भूमिका और उत्तरदायित्व)।06
भाषा 1 के लिए यू.पी.टी.ई.टी. का पाठ्यक्रम
  • भाषा की समझ (15 प्रश्न)
  • भाषा विकास का अध्यापन (15 प्रश्न)
यूनिटविषयअंक
1अनजान पैसेज, लिंकिंग डिवाइस, विषय (सब्जेक्ट) – क्रिया समन्वय (वर्व कोनकर्ड), इंफेरेंस।05
2अनजान कविता आईडेंटिफिकेशन ऑफ़ अलायट्रेशन, सिमाइल, मेटाफोर, परसोनिफेशन, असोनेंस, राइम।05
3मॉडल ऑक्सिलियरीज, फ्रेजल वर्ब्स और आइडम्स, साहित्यिक टर्म्स: एलीजी, सॉन्नेट, लघु कथा, ड्रामा।05
4अंग्रेजी भाषा, ध्वनि एवं संचार संबंधित ज्ञान।05
5अंग्रेजी अध्यापन के सिद्धांत, अंग्रेजी भाषा शिक्षण के लिए सांकेतिक दृष्टिकोण, अध्यापन की चुनौतियां अंग्रेजी: भाषा की कठिनाइयां, त्रुटियां और विकार।05
6मूल्यांकन के तरीके, उपचारात्मक शिक्षण।05

 
भाषा 2 के लिए यू.पी.टी.ई.टी. का पाठ्यक्रम
  • भाषा की समझ (15 प्रश्न)
  • भाषा विकास का अध्यापन (15 प्रश्न)
गणित विषय के लिए यू.पी.टी.ई.टी. का पाठ्यक्रम
  • विषय (15 प्रश्न)
  • शिक्षा शास्त्र से संबंधित ज्ञान (15 प्रश्न)
यूनिटविषय
1एक करोड़ तक की संख्या का ज्ञान, प्लेस वैल्यू, तुलनात्मक ज्ञान, मौलिक गणितीय ज्ञान: जोड़, घटाव, गुणन और विभाजन; भारतीय मुद्रा का ज्ञान आदि।
2अंश, समान, भिन्न, असमान डिनोमिनेटर के अंशों की तुलना, अंशों का जोड़ और घटाव। प्राइम और कंपोजिट संख्या, प्राइम फैक्टर्स, न्यूमतम कॉमन मल्टीपल (एल.सी.एम.) और उच्चतम सामान्य फैक्टर (एच.सी.एफ.) आदि।
3विश्वविद्यालय कानून, औसत, लाभ-हानि, सरल ब्याज।
4प्लेस और घुमावदार (कर्व्ड) सरफेस, सामान्य (प्लेन) एवं ठोस (सॉलिड) ज्यामितीय आंकड़े, प्लेन ज्यामितीय आंकड़ों की समृद्धि; पिंट, लाइन, रे, लाइन सेगमेंट; कोण और उसके प्रकार लंबाई, वजन, क्षमता, समय, माप का क्षेत्र एवं मानक इकाइयां तथा इनके बीच संबंध; वर्ग के प्लेन सरफेस का क्षेत्र, परिधि और आयताकार वस्तुएं।
5गणित / तार्किक थिंकिंग। पाठ्यक्रम में गणित का महत्व, गणित की भाषा और कम्युनिटी गणित।
6औपचारिक और अनौपचारिक तरीकों के माध्यम से मूल्यांकन, शिक्षण की समस्याएं, त्रुटि विश्लेषण। सीखने और शिक्षण से संबंधित पहलू। नैदानिक और उपचारात्मक शिक्षण।
पर्यावरण अध्ययन विषय के लिए यू.पी.टी.ई.टी. का सिलेबस
  • विषय (15 प्रश्न)
  • शिक्षा शास्त्र संबंधी ज्ञान (15 प्रश्न)
यूनिटविषयअंक
1परिवार निजी संबंध, एकल और संयुक्त परिवार, सामाजिक शोषण (बाल विवाह, दहेज प्रणाली, बाल श्रम, चोरी)। लत (नशा, धूम्रपान) और इसके व्यक्तिगत, सामाजिक और आर्थिक बुरा प्रभाव। कपड़ा और आवास एवं अलग-अलग मौसम के लिए कपड़े; घर पर कपड़े का रखरखाव। हथकरघा और बिजली का करघा। जीवित प्राणियों के निवास स्थान। विभिन्न प्रकार के घर; घरों और आस-पड़ोस के क्षेत्रों की सफाई। घरों के निर्माण के लिए लगने वाली विभिन्न प्रकार की सामग्रियां।05
2व्यवसाय – अपने आसपास के कार्य (सिलाई कपड़े, बागवानी, खेती, पशु पालन, सब्जी विक्रेता आदि)। छोटे और कुटीर उद्योग। राजस्थान राज्य के प्रमुख उद्योग, उपभोक्ता संरक्षण की आवश्यकता, सहकारी समितियां। सार्वजनिक स्थान और संस्थान – स्कूल, अस्पताल, डाकघर, बस स्टैंड, रेलवे स्टेशन जैसे सार्वजनिक स्थान; सार्वजनिक संपत्ति (स्ट्रीट लाइट, सड़क, बस, ट्रेन, सार्वजनिक भवनों आदि); बिजली और पानी की बर्बादी। रोजगार नीतियां; पंचायत, विधानसभा और संसद के बारे में सामान्य जानकारी। संस्कृति और सभ्यता – मेला और त्यौहार, राष्ट्रीय त्योहार। कपड़े, भोजन-आदतें और राजस्थान की कला और शिल्प; राजस्थान के पर्यटन स्थल। राजस्थान के महान व्यक्तित्व।05
3परिवहन और संचार। परिवहन और संचार के साधन। पैदल एवं वाहन वालों के लिए परिवहन संबंधी नियम। जीवन शैली पर संचार साधनों का प्रभाव। व्यक्तिगत स्वच्छता – शरीर के बाहरी हिस्से और उनकी सफाई। शरीर के आंतरिक भागों के बारे में सामान्य जानकारी। आहार और इसका महत्व; आम रोगों (गैस्ट्रोएन्टोराइटिसिस, एमोइबिओसिस, मेथाईमोग्लोबिन, एनीमिया, फ्लोरोसिस, मलेरिया, डेंगू) के कारण और रोकथाम के तरीके। पल्स पोलियो अभियान। जीवित प्राणी: पौधे और जानवर। जीवों की विविधता। राज्य के फूल, पेड़, पक्षी, जानवर। आरक्षित वन और वन्य जीवन (राष्ट्रीय उद्यानों, अभयारण्य, बाघ आरक्षित, विश्व विरासत) का ज्ञान। पौधों और जानवरों की प्रजातियों का संरक्षण, खरीफ और रबी फसलों का ज्ञान।05
4पदार्थ और ऊर्जा। पदार्थों के आम गुण (रंग, नाम, लचीलापन, घुलनशीलता) विभिन्न प्रकार के ईंधन। ऊर्जा का प्रकार और उर्जा का एक रूप से दूसरे में परिवर्तन; रोज़मर्रा के जीवन में ऊर्जा का प्रभाव, प्रकाश के स्रोत, प्रकाश के सामान्य गुण। हवा, पानी, वन, झीलों और रेगिस्तान का मूल ज्ञान। राजस्थान में ऊर्जा के नवीकरणीय और अप्राप्य संसाधन और उनके संरक्षण की अवधारणा। मौसम और जलवायु। जल चक्र।05
5पर्यावरण अध्ययन की अवधारणा और संभावना। पर्यावरण अध्ययन का महत्व, एकीकृत पर्यावरण अध्ययन पर्यावरण। अध्ययन तथा पर्यावरण शिक्षा के सिद्धांत, विज्ञान और सामाजिक विज्ञान के साथ क्षेत्र के संबंध एवं संबंधित अवधारणाएं।05
6प्रयोग / व्यावहारिक कार्यों पर व्यापक और निरंतर चर्चा एवं मूल्यांकन, शिक्षण सामग्री एवं शिक्षण की समस्याएं/ एड्स।05
पुस्तकों का नामप्रकाशक
यू.पी.टी.ई.टी. पेपर 1 (कक्षा 1 से 5) साल्वड पेपरविद्या प्रकाशन मंदिर लिमिटेड
पेपर 1 (प्राथमिक स्तरीय) कक्षा 1 से 5 तक के लिए गाइडरमेश पब्लिशिंग हाउस
यू.पी.टी.ई.टी. – पेपर 1 कक्षा 1 से 5 तक के लिए (15 प्रैक्टिस सेट्स) 2019जी.के. पब्लिकेशंस प्राइवेट लिमिटेड
यू.पी.टी.ई.टी. पेपर 1 (कक्षा 1 – 5) 15 अभ्यास प्रश्न पत्रअरिहंत प्रकाशन
यू.पी.टी.ई.टी. उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा – पेपर 1 प्रैक्टिस सेट्सविद्या प्रकाशन
पेपर 2 के लिए यू.पी.टी.ई.टी. का पाठ्यक्रम
  • पेपर 2 की परीक्षा भी एन.सी.ई.आर.टी. की पुस्तकों के आधार पर आयोजित की जाती है। इसका पाठ्यक्रम कक्षा 6 से 8 तक के शिक्षण और सीखने के मनोविज्ञान पर केंद्रित होता है।
  • इस परीक्षा के तहत गणित या विज्ञान में रुचि रखने वाले परिक्षार्थियों को विकल्प ए का चयन करना होता है और सामाजिक विज्ञान में रुचि रखने वाले परिक्षार्थियों को विकल्प बी का प्रयास करना होता है।
  • यू.पी.टी.ई.टी. 2019 के तहत पेपर 2 के लिए पाठ्यक्रम निम्नानुसार है-
यू.पी.टी.ई.टी. पेपर 2प्रश्नों की संख्याकुल अंक
बाल विकास, सीखना और अध्यापन30 प्रश्न30 अंक
प्रथम भाषा (हिंदी)30 प्रश्न30 अंक
दूसरी भाषा (अंग्रेजी, उर्दू और संस्कृत से कोई भी)30 प्रश्न30 अंक
ए गणित / विज्ञान। बी। सामाजिक अध्ययन / सामाजिक विज्ञान60 प्रश्न60 अंक

 
बाल विकास और अध्यापन विषय के लिए यू.पी.टी.ई.टी. का पाठ्यक्रम
विषयअध्याय
बाल विकास (प्राथमिक स्कूल के स्तर का) विकास की अवधारणा और सीखने के साथ उसका संबंध (15 प्रश्न)बच्चों के विकास के सिद्धांत। आनुवंशिकता और पर्यावरण का प्रभाव। समाजीकरण प्रक्रिया: बच्चों की सामाजिक दुनिया (शिक्षक, माता-पिता और साथी)। पियागेट, कोहलबर्ग और विगोत्स्की: निर्माण और महत्वपूर्ण दृष्टिकोण। बाल-केंद्रित और प्रगतिशील शिक्षा की अवधारणा। बौद्धिक क्षमता निर्माण की संभावना। बहु-आयामी बौद्धिक क्षमता की पहचान। भाषा और विचार। लिंग- लिंग संबंधित भूमिकाएं, लिंग-पूर्वाग्रह और शैक्षिक अभ्यास। शिक्षार्थियों के बीच अलग-अलग मतभेद, विविधता के आधार पर छात्रों के अंतर को समझना। भाषा, जाति, लिंग, समुदाय, धर्म आदि। सीखने के लिए मूल्यांकन और मूल्यांकन के बाद। शिक्षण के बीच भेद। आकलन, निरंतर और व्यापक मूल्यांकन। विचार और अभ्यास। शिक्षार्थियों के तत्परता स्तर का मूल्यांकन करने के लिए उपयुक्त प्रश्न तैयार करना। कक्षा में सीखने और महत्वपूर्ण सोच को बढ़ाने और सीखने की उपलब्धि का आकलन करना।
समावेशी शिक्षा की संकल्पना और विशेष आवश्यकताओं वाले बच्चों को समझना (5 प्रश्न)विभिन्न वंचित पृष्ठभूमि संबंधित छात्रों की परेशानियों को समझना, उनके सीखने की कठिनाइयों को समझना, बच्चों की जरूरतों को संबोधित करना आदि। प्रतिभाशाली, ज्ञानवान, विशेष रूप से सक्षम शिक्षार्थियों को उनके स्तर की पढ़ाई कराना आदि।
सीखना और अध्यापन (10 प्रश्न)बच्चे कैसे सोचते और सीखते हैं। स्कूल में सफलता हासिल करने के लिए बच्चों की सोच कैसी होनी चाहिए तथा असफलता पर उनको क्या करना है। शिक्षण और सीखने की मूल प्रक्रियाएं। सीखने के लिए बच्चों की रणनीतियां। सामाजिक भागीदारी सीखना। समस्या हल करने वाला और एक नई सोच रखने वाला बनाना। बच्चों में सीखने की वैकल्पिक अवधारणा; सीखने की प्रक्रिया में महत्वपूर्ण कदमों के रूप में बच्चों की ‘त्रुटियों’ को समझना। अनुभूति और भावनाएं। प्रेरणा और व्यक्तिगत रूप से सीखना। पर्यावरण संबंधी पढ़ाई कराना और समझाना।

 
भाषा 1 के लिए यू.पी.टी.ई.टी. पाठ्यक्रम
विषयअध्याय
समझ (15 प्रश्न)अनदेखे अंश पढ़ना- दो अंश (एक गद्य या नाटक और एक कविता) जिसमें से कम्प्रिहेंशन, निष्कर्ष, व्याकरण और मौखिक क्षमता पर पूछे गए प्रश्न (गद्य साहित्य, वैज्ञानिक, कथा या प्रवचन जैसा हो सकता है) का जवाब देना।
भाषा विकास की अध्यापन (15 प्रश्न)सीखना और अर्जन एवं भाषा शिक्षण के सिद्धांत। सुनने और बोलने की भूमिका। भाषा का कार्य और बच्चों कैसे इसका उपयोग टूल के रूप में कैसे करते हैं। विचारों को मौखिक और लिखित रूप में कैसे व्यक्त करना है। भाषा सीखने में व्याकरण की भूमिका का ज्ञान। विविध कक्षा में शिक्षण भाषा की चुनौतियां एवं भाषा की कठिनाइयां, त्रुटियां और विकार तथा भाषा कौशल। भाषा की समझ और प्रवीणता का मूल्यांकन जैसे- बोलना, सुनना, पढ़ना और लिखना। शिक्षण सामग्री: पाठ्य पुस्तक, मल्टी मीडिया सामग्री, कक्षा के बहुभाषी संसाधन एवं उपचारात्मक शिक्षण

 
गणित और विज्ञान के लिए यू.पी.टी.ई.टी. पाठ्यक्रम

यू.पी.टी.ई.टी. 2019 के लिए गणित और विज्ञान विषयों का पाठ्यक्रम निम्नलिखित तालिका में  दिया गया है-

गणितविज्ञान
शिक्षा शास्त्र संबंधी ज्ञानशिक्षा शास्त्र संबंधी ज्ञान
संख्या प्रणालीखाद्य प्रणाली
बीजगणितविषय से संबंधित
रेखागणितविश्व जगत से संबंधित
क्षेत्रमितिप्राकृतिक संसाधन
डाटा हैंडलिंगकैसे काम करता है
प्राकृतिक घटना
सामाजिक अध्ययन / सामाजिक विज्ञान के लिए यू.पी.टी.ई.टी. का पाठ्यक्रम
विषयविषय से संबंधित उप विषय
इतिहासइतिसाह में कब और कैसे क्या हुआ। हमारा पहला समाज, प्रथम शहर, जीवन, नये विचार, पहला साम्राज्य, दूर-दराज के ईलाके या भूमि के साथ सम्पर्क (नजदीकियां), राजनीतिक विकास, संस्कृति और विज्ञान, पूर्व के राजा एवं राजपाट, सुल्तानों के समय की दिल्ली की स्थिति, वास्तुकला, साम्राज्य का निर्माण, सामाजिक परिवर्तन, क्षेत्रीय संस्कृतियां, कंपनी पावर की स्थापना, ग्रामीण जीवन और समाज, उपनिवेशवाद और जनजातीय समाज, 1857-58 का विद्रोह, महिला और उसकी स्थिति में सुधार, जाति व्यवस्था को चुनौती, राष्ट्रवादी आंदोलन, स्वतंत्रता के बाद हमारा भारत।
भूगोलसामाजिक अध्ययन एवं विज्ञान के रूप में भूगोल का अध्ययन। ग्रह: सौर मंडल में पृथ्वी, ग्लोब। पर्यावरण: प्राकृतिक और मानव पर्यावरण, वायु, जल। परिवहन और संचार, संसाधन। प्राकृतिक और मानव, कृषि।
सामाजिक और राजनीतिक विज्ञानविविधता, सरकार, स्थानीय सरकार, लोकतंत्र, राज्य सरकार, मीडिया की समझ, लिंग, संविधान, संसदीय व्यवस्था, सामाजिक न्याय और हाशिए वाले समूह।
शिक्षाशास्त्रसामाजिक विज्ञान / सामाजिक अध्ययन, कक्षा कक्ष की प्रक्रियाएं, गतिविधियां, अवधारणा और प्रकृति। अनुभवजन्य साक्ष्य। स्रोत – प्राथमिक और माध्यमिक, परियोजनाओं के काम करने का तरीका, शिक्षण की समस्याएं।

 
यू.पी.टी.ई.टी. के पेपर 2 के लिए उत्तम पुस्तकें

अभ्यर्थी यू.पी.टी.ई.टी. 2019 के पेपर 2 के लिए इन पुस्तकों से अध्ययन कर सकते हैं:-

पुस्तकों के नामप्रकाशक
यू.पी.टी.ई.टी. पेपर 2 क्लास, 6 से 8 तक के लिए (गणित एवं विज्ञान) 15 प्रैक्टिस सेटजी.के. पब्लिकेशंस प्राइवेट लिमिटेड
यू.पी.टी.ई.टी.: पेपर 2- उच्च प्राथमिक स्तर शिक्षक गाइड- सामाजिक विज्ञान,रमेश पब्लिशिंग हाउस
यू.पी.टी.ई.टी. पेपर 2 गाइड- कक्षा 6 से 8- सामाजिक अध्ययनजी.के. पब्लिकेशंस प्राइवेट लिमिटेड
यू.पी.टी.ई.टी. पेपर 2- कक्षा 6 से 8 -विज्ञान और गणित चैपटरवाइज साल्वड पेपरविद्या प्रकाशन मंदिर लिमिटेड
उत्तर प्रदेश शिक्षा पात्रता परामर्श पत्र 2अरीहांत प्रकाशन

जल्द और सही जानकारी पाने के लिए हमें FaceBook पर Like करे sarkarijobguide

SarkariJobGuide

कैसी लगी UPTET 2019 का परीक्षा पाठ्यक्रम हिंदी में की पोस्ट, हमें कमेन्ट के माध्यम से अवश्य बताये और आपको किस विषय की नोट्स चाहिए या किसी अन्य प्रकार की दिक्कत जिससे आपकी तैयारी पूर्ण न हो पा रही हो हमे बताये हम जल्द से जल्द वो आपके लिए लेकर आयेगे|

धन्यवाद——-

SarkariJobGuide.com का निर्माण केवल छात्र को शिक्षा (Educational) क्षेत्र से सम्बन्धित जानकारी उपलब्ध करने के लिए किया गया है, तथा इस पर उपलब्ध पुस्तक/Notes/PDF Material/Books का मालिक SarkariJobGuide.com नहीं है, न ही बनाया और न ही स्कैन किया है। हम सिर्फ Internet पर पहले से उपलब्ध Link और Material प्रदान करते हैं। यदि किसी भी तरह से यह कानून का उल्लंघन करता है या कोई समस्या है तो कृपया हमें Mail करें SarkariJobGuide@gmail.com पर

Leave a Comment

error: Content is protected !!