fbpx
GK Current Affairs Study Materials

विटामिन याद करने की सॉर्ट कट की हिंदी में (अब भूल के दिखाओ )

विटामिन याद करने की सॉर्ट कट की -Hello Friend’s एक बार फिर आप सभी का स्वागत है SarkariJobGuide के इस NOTES के सेक्शन में जहाँ आपकी अपनी Team यानि SarkariJobGuide की प्रतिदिन कोई न कोई ऐसे NOTES लेकर आती है जो सीधे-सीधे आपकी आने वाली परीक्षाओ से सम्बन्धित होती है|

आज का हमारा विषय है- विटामिन याद करने की सॉर्ट कट की,  में शुरू करने से पहले थोडा सा विटामिन  के बारे में जान लेते है|

विटामिनस क्या होते है

विटामिनस ऐसे कार्बनिक यौगिक है जो की चाहे कम मात्रा में ही सही परन्तु हमारे शरीर के उचित कामकाज के लिए बहुत ही आवश्यक है। यह हमे भोजन से मिलते है। हमारा शरीर खुद से विटामिन्स नहीं बनता या बहुत ही कम मात्रा में बनता है तो इनकी कमी हम भोजन से पूरी करते है।

हर जीव-जंतु को अलग अलग तरह के विटामिन्स चाहिए होते है। जैसे की मनुष्य का शरीर विटामिन C नहीं बना सकता तो हमे यह भोजन से लेना पड़ता है परन्तु कुछ ऐसे जानवर है जैसे की कुत्ता, जिनका शरीर खुद से विटामिन C बना सकता है।

“A” – र – रतौंधी (Night Blindness)- Retinol
“B” – बे – बेरीबेरी (Beriberi) – Thiamine
“C” – सा – स्कर्वी (Scurvy) – Ascarbik acid
“D” – रे – रिकेट्स (Rickets) – Calciferol
“E” – वहाँ – बांझपन (Infertility) – Tocopherol
पर
“K” – हैं – हेमोरेजिक (Hemorrhagic) – Philo Quinone
 
 
विटामिन ए (Vitamin A) – रेटिनॉल(Retinol) – र – रतौधीं – विटामिन A की कमी से बच्‍चों में रतौंधी तथा बडों जीरोफ्थेल्मिया नामक रोग हो जाता है इस रोग से ग्रसित व्यक्ति को रात्रि में दिखाई नही देता । यह रोग अधिक समय तक धूप में रहने तथा आहार में विटामिन ‘ए’ की कमी से होता है
 
विटामिन बी (Vitamin B) – थायमिन (Thiamine) – वे – बेरी बेरी – विटामिन B की कमी से बेरी बेरी नामक रोग हो जाता है बेरी बेरी रोग के लक्षण – : बहुतंत्रिकाशोथ, धड़कन के दौरे, दु:श्वास तथा दुर्बलता। रोग जिस तंत्रिका को पकड़ता है उसी के अनुसार अन्य लक्षण प्रकट होते हैं।
 
विटामिन सी (Vitamin C) – एस्कार्बिक अम्ल (Ascarbik acid) – सा – स्‍कर्वी – विटामिन C की कमी से स्‍कर्वी नामक रोग हो जाता है विटामिन सी की कमी से मसूढ़ों में सूजन, दांत गिरना व रोगी का चेहरा पीला पड़ जाना इसके खास हैं। इससे खासकर शरीर की जांघो और पैर में चकत्ते पड जाते हैं
 
विटामिन डी (Vitamin D) – कैल्सिफेरॉल (Calciferol) – रे – रिकेट्स – विटामिन D की कमी से रिकेट्स नामक रोग हो जाता है जो प्राय: बच्चों में पाया जाता है। इस विटामिन की कमी से कंकाल विकृति, अस्थि भंगुरता, विकास में बाधा, दाँतों की समस्या, हड्डियों का दर्द, पेशियों में कमजोरी आदि है
विटामिन ई (Vitamin E) – टोकोफेरॉल (Tocopherol) – वहॉ  वाझपन – विटामिन E की कमी से नपुंसकता रोग हो जाता है इसकी कमी से जनन शक्ति में कमी आ जाती है। मायोपैथी तथा लिपिड पेरॉक्‍सीडेशन आदि रोग भी हो सकते है
 
विटामिन के (Vitamin K) – फिलोक्वीनोन (Philo quinone) – है – रक्‍त का थक्‍का न बनना – विटामिन K की कमी से रक्त का थक्का देर से बनना है जिससे की शरीर पर लगी चोट को सही होने में काफी समय लगता है
 
विटामिनस क्या होते है

विटामिनस ऐसे कार्बनिक यौगिक है जो की चाहे कम मात्रा में ही सही परन्तु हमारे शरीर के उचित कामकाज के लिए बहुत ही आवश्यक है। यह हमे भोजन से मिलते है। हमारा शरीर खुद से विटामिन्स नहीं बनता या बहुत ही कम मात्रा में बनता है तो इनकी कमी हम भोजन से पूरी करते है।

हर जीव-जंतु को अलग अलग तरह के विटामिन्स चाहिए होते है। जैसे की मनुष्य का शरीर विटामिन C नहीं बना सकता तो हमे यह भोजन से लेना पड़ता है परन्तु कुछ ऐसे जानवर है जैसे की कुत्ता, जिनका शरीर खुद से विटामिन C बना सकता है।

फैट-सॉल्युबल (fat-soluble) और वाटर-सॉल्युबल (water-soluble) विटामिन्स

विटामिन्स या तो फैट-सॉल्युबल (fat-soluble) होते है या फिर वाटर-सॉल्युबल (water-soluble) होते है। फैट-सॉल्युबल (fat-soluble) वो होते है जो की हमारे शरीर में आसानी से संग्रहीत किये जा सकते है। यह फैटी ऊतकों (fatty tissues) में संग्रहित होते हैं।  
फैट-सॉल्युबल (fat-soluble) विटामिन्स हमारे शरीर के अंदर बहुत दिनों तक ये महीनो तक भी रह सकते है।  
वाटर-सॉल्युबल (water-soluble) विटामिन्स संग्रहित नहीं किये जा सकते। यह हमारे शरीर में ज्यादा देर तक नहीं रहते।

विटामिन्स के प्रकार

विटामिन्स 13 प्रकार के होते है। आईये जानते है।

विटामिन ए | Vitamin A in Hindi

विटामिन A का रासायनिक नाम रेटिनॉल (Retinol) है। यह फैट-सॉल्युबल (fat-soluble) 
विटामिन है। विटामिन A का मुख्य काम है की हमारी मांसपेशियाँ और हड्डी को मज़बूती और ताकत देना। ये खून में कैल्शियम का संतुलन बनाये रखता है और मुँहासो के इलाज के लिए भी उपयोगी है। इसकी कमी से हमे आँखों के रोग हो सकते है।

विटामिन ए के मुख्य स्रोत है दूध, हरी सब्ज़ियां, पनीर। ये हमारे बालो को भी स्वस्थ रखता है।

विटामिन बी | Vitamin B in Hindi

विटामिन बी – इसके कई रूप है। इसके बारे में विस्तार से जानकारी आपको निचे मिल जाएगी।

विटामिन बी – 1
  • रासायनिक नाम: थाइमिन (Thaimine)
  • यह वाटर-सॉल्युबल विटामिन है।
  • स्रोत: सूरजमुखी के बीज, अनाज, आलू, संतरे और अंडे।
  • फायदे: मस्तिष्क को विकसित रखने के लिए बहुत ही उपयोगी है। इसकी कमी से हमे बेरीबेरी रोग हो सकता है
विटामिन बी – 2
  • रासायनिक नाम: राइबोफ्लेविन (Riboflavin)
  • यह वाटर-सॉल्युबल विटामिन है।
  • स्रोत: केला, दूध, दही, मास, अंडे, हरी बीन्स और मछली।
  • फायदे: त्वचा को अच्छी रखने के लिए बहुत ही उपयोगी है।
विटामिन बी – 3
  • रासायनिक नाम: नियासिन (Niacin)
  • यह वाटर-सॉल्युबल विटामिन है।
  • स्रोत: खजूर, दूध, अंडे, टमाटर, गाजर, एवोकाडो।
  • फायदे: रक्तचाप को नियंत्रण में रखने और सिरदर्द, दस्त को कम करती है।
विटामिन बी – 5 
  • रासायनिक नाम: पैंटोथेनिक एसिड (Pantothenic acid),
  • यह वाटर-सॉल्युबल विटामिन है।
  • स्रोत: एवोकैडो, अनाज, मांस।
  • फायदे: बालो को स्वस्थ और सफेद होने से बचाता है। इससे तनाव भी कम होता है।
विटामिन बी – 6
  • रासायनिक नाम: प्यरीडॉक्सीने (Pyridoxine)
  • यह वाटर-सॉल्युबल विटामिन है।
  • स्रोत: अनाज, मांस, केले, सब्जियां।
  • फायदे: यह सुबह की थकान कम करता है। तनाव और अनिद्रा से भी मुख्ती देता है।
विटामिन बी – 7
  • रासायनिक नाम: बायोटिन (Biotin)
  • यह वाटर-सॉल्युबल विटामिन है।
  • स्रोत: अंडे की जर्दी (Egg yolk), सब्जियां।
  • फायदे: यह त्वचा और बालो के लिए बहुत ही अच्छा है। इसकी कमी से हमे जिल्द की सूजन (dermatitis) हो सकती है।
विटामिन बी – 9
  • रासायनिक नाम: फोलिक एसिड (Folic acid)
  • यह वाटर-सॉल्युबल विटामिन है।
  • स्रोत: पत्तीदार शाक भाजी, सूरजमुखी के बीज, कुछ फलो में भी यह होता है।
  • फायदे: यह त्वचा के लोग और गठिया के उपचार हेतु बहुत ही शक्तिशाली है। गर्भवती महिलाओं को यह लेने ही सलाह दी जाती है।
विटामिन बी – 12
  • रासायनिक नाम: कयनोसोबलमीन (Cyanocobalamin)
  • यह वाटर-सॉल्युबल विटामिन है।
  • स्रोत: मछी, मास, दूध, अंडे और दूध दे बनाये उत्पादों में यह होता है।
  • फायदे: यह एनीमिया (खून की कमी), मुँह में अलसर जैसी बिमारियों को कम करता है।
विटामिन सी | Vitamin C in Hindi
  • रासायनिक नाम: एस्कॉर्बिक एसिड (Ascorbic acid)
  • यह वाटर-सॉल्युबल विटामिन है।

यह हमारी त्वचा और हड्डियों के लिए बहुत ही आवश्यक है। यह किसी घाव को ठीक करने में बहुत ही ज्यादा मदद करता है। विटामिन सी की कमी हम फल और सब्ज़ियां खा कर पूरी कर सकते है। टमाटर, ब्रोकोली में अच्छी मात्रा में विटामिन सी होता है। यह गर्भवती महिलाओ, धूम्रपान करने वाले व्यक्तियों को ज्यादा मात्रा में खाना चाहिए।

विटामिन डी | Vitamin D in Hindi
  • रासायनिक नाम: एरगोसेल्सिफेरोल (Ergocalciferol)
  • यह फैट-सॉल्युबल विटामिन है।

विटामिन डी हमारे शरीर में कैल्शियम अब्सॉर्ब करने में बहुत ही मदद करता है। यह हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली को मज़बूत करने में भी मदद करता है, दांतो की सड़न को कम करता है। इसकी कमी से हमे सूखा रोग (Rickets) हो सकता है।
तीन चीज़ो के ज़रिये हमे विटामिन डी मिल सकता है – त्वचा के माध्यम से, अपने आहार से, और पूरक से। हमारा शरीर खुद विटामिन डी बना लेता है जब उसे सूरज की रौशनी मिलती है। आहार की बात करे तो दूध और अंडे की जर्दी से भी हमे विटामिन डी मिल जाता है।

विटामिन ई | Vitamin E in Hindi
  • रासायनिक नाम: तोसोफेरोल्स (Tocopherols)
  • यह फैट-सॉल्युबल विटामिन है।

विटामिन ई हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली मज़बूत बनाता है। वनस्पति तेल, अनाज, बादाम, एवोकैडो, अंडे और दूध से हमे विटामिन ई मिल जाता है। जिन लोगो को किसी प्रकार के यकृत रोग होते है उनको यह ज्यादा लेने के लिए कहा जाता है। विटामिन ई के लिए कोई पूरक लेने से पहले डॉक्टर से जरूर परामर्श लें।

विटामिन के | Vitamin k in Hindi
  • रासायनिक नाम: फीलोक्विनोने (Phylloquinone)
  • यह फैट-सॉल्युबल विटामिन है।

विटामिन के स्वस्थ हड्डियों और ऊतकों के लिए प्रोटीन बनाकर हमारे शरीर की मदद करता है।

विटामिन्स हमारी सेहत के लिए बहुत ही जरुरी है। इसलिए अपनी डाइट को इस प्रकार रखें के उसमे विटामिन्स जरूर हो। और स्वास्थ्य टिप्स हिंदी में पाने के लिए हमारी वेबसाइट पर ब्लॉग पढ़ते रहे। आप अपने सुझाव हमे यहां क्लिक करके भेज सकते है।

आप ये भी पढ़ सकते है-

जल्द और सही जानकारी पाने के लिए हमें FaceBook पर Like करे sarkarijobguide

SarkariJobGuide

कैसी लगी विटामिन याद करने की सॉर्ट कट की GK की पोस्ट, हमें कमेन्ट के माध्यम से अवश्य बताये और आपको किस विषय की नोट्स चाहिए या किसी अन्य प्रकार की दिक्कत जिससे आपकी तैयारी पूर्ण न हो पा रही हो हमे बताये हम जल्द से जल्द वो आपके लिए लेकर आयेगे|

धन्यवाद——-

SarkariJobGuide.com का निर्माण केवल छात्र को शिक्षा (Educational) क्षेत्र से सम्बन्धित जानकारी उपलब्ध करने के लिए किया गया है, तथा इस पर उपलब्ध पुस्तक/Notes/PDF Material/Books का मालिक SarkariJobGuide.com नहीं है, न ही बनाया और न ही स्कैन किया है। हम सिर्फ Internet पर पहले से उपलब्ध Link और Material प्रदान करते हैं। यदि किसी भी तरह से यह कानून का उल्लंघन करता है या कोई समस्या है तो कृपया हमें Mail करें SarkariJobGuide@gmail.com पर

Leave a Comment

error: Content is protected !!