SarkariJobGuide Special Study Materials

NIOS BOARD: शैक्षिक योग्यता, प्रवेश परीक्षाएँ, एडमिशन प्रक्रिया तथा अन्य जानकारी हिंदी में

नमस्कार दोस्तों ,

Hello Friend’s एक बार फिर आप सभी का स्वागत है SarkariJobGuide के इस NOTES के सेक्शन में जहाँ आपकी अपनी Team यानि SarkariJobGuide की प्रतिदिन कोई न कोई ऐसे NOTES लेकर आती है जो सीधे-सीधे आपकी आने वाली परीक्षाओ से सम्बन्धित होती है|

आज की इस पोस्ट में हम जानेगे की NIOS BOARD है क्या और क्या इसकी डिग्री मान्य है की नही और इसमें से पड़ने के बाद क्या हम किसी भी फॉर्म को APLLY करने योग्य हैं की नही तो आइये आपको पूरी जानकारी हम अपने इस पोस्ट में देते है …

नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ़ ओपन स्कूलिंग (NIOS) भारत का एकमात्र मंच है जहां ऐसें छात्र एडमिशन लेते हैं जो शिक्षा निजी मोड में पूरी करना चाहते हैं. NIOS बोर्ड के माध्यम से छात्र अपनी शिक्षा पूरी कर बाकी शिक्षा बोर्ड के छात्रों की तरह अपनी आगे की पढाई कर सकते है और अपना करियर बना सकते है. NIOS बोर्ड, मानव संसाधन विकास मंत्रालय (MHRD) द्वारा शुरू किया गया था, जिसका लक्ष्य समाज के ग्रामीण या पिछड़े वर्ग के बच्चो व युवाओं को शिक्षा प्रदान करना था जो स्कूलों के बिना ही सीख और पढ़ सकते हैं.

Image result for NIos Board Image

Latest:NIOS स्ट्रीम 1 ऑनलाइन प्रवेश अकेडमिक सत्र 2018-19 के लिए शुरू कर दिया गया है –

NIOS के प्रमुख उद्देश्य क्या हैं?

  • देश के ग्रामीण क्षेत्रों में बच्चों को औपचारिक शिक्षा प्रदान करने के लिए जहां स्कूलों की सुविधा नहीं है.
  • ऐसे व्यक्तियों को शिक्षा प्रदान करना जो अपनी बुनियादी शिक्षा पूरी नहीं कर सके.
  • जो स्टूडेंट्स कक्षा 10 या कक्षा 12 की बोर्ड परीक्षा (जो किसी भी अन्य बोर्ड से की हो) में असफल रह गए हो, वे एनआईओएस (NIOS) की ऑन-डिमांड परीक्षा की सुविधा के साथ उसी साल में अपनी कक्षा 10 या कक्षा 12 पूरी कर सकती है.

क्या एनआईओएस एक वैश्विक बोर्ड है?

NIOS बोर्ड भारत में 21 क्षेत्रीय केंद्रों और 4 उप केंद्रों के द्वारा संचालन करता है और साथ ही भारत में 6351 स्टडी सेंटरर्स व 31 स्टडी सेंटरर्स UAE, कुवैत, मस्कट, बहरीन, नेपाल, कतर और सऊदी अरब में संचालित है.

एनआईओएस के द्वारा स्टूडेंट्स कैसे पढ़ाई कर सकते हैं?

स्टूडेंट्स एनआईओएस से कक्षा 1 से लेकर कक्षा 8 तक की शिक्षा मूल रूप से पूरी कर सकते है. और इसके साथ-साथ कक्षा 10, कक्षा 12 या व्यावसायिक पाठ्यक्रमों (vocational courses) से अपनी शिक्षा पूरी कर सकते हैं.

माध्यमिक और वरिष्ठ माध्यमिक स्तर तक की शिक्षा के लिए, एनआईओएस छात्रों के लिए अपनी पसंद के पाठ्यक्रम, सीखने की गति, और सीबीएसई से अपने अंक ट्रान्सफर करवाने के लिए छात्रों के लिए सुविधा प्रदान करता है. यह सुविधा सभी अन्य राष्ट्रीय /राज्य स्कूल शिक्षा बोर्ड और राजकीय ओपन स्कूलों के लिए भी प्रदान करता है.

एनआईओएस एडमिशन 2018: ऑनलाइन और ऑफ़लाइन आवेदन प्रक्रिया, योग्यता:

स्टूडेंट्स National Institute of Open Schooling (NIOS) के द्वारा माध्यमिक (class 10), वरिष्ठ माध्यमिक (class 12) या vocational courses और basic education में admission ले सकतें हैं. इसके अलावा, जो छात्र कक्षा 10 वीं या 12 वीं में अन्य boards exams में असफल (fail) हो गयें हैं, वे NIOS board की ऑन-डिमांड परीक्षा (ODE) में प्रवेश लेकर, कभी भी class 10th या 12th boards exams में pass हों सकतें हैं.

NIOS board नए छात्रों के लिए हर साल प्रवेश प्रक्रिया दो बार उपलब्ध करता हैं क्यूकि यह open board साल में दो बार परीक्षा स्कीम फॉलो करता हैं. जो नए छात्र NIOS board में एडमिशन लेना चाहते हैं वो stream 1 में block I या block II में एडमिशन ले सकते सकते हैं.

NIOS: ट्यूटर marked असाइनमेंट

ट्यूटर मार्कड असाइनमेंट (टीएमए) कक्षा 10 या कक्षा 12 के स्तर पर नामांकित पाठ्यक्रम द्वारा प्रस्तुत किए जाने वाले एनआईओएस असाइनमेंट हैं. जिसके अंतर्गत छात्रों द्वारा चुने गए प्रत्येक विषय के लिए, तीन असाइनमेंट होंगे, प्रत्येक असाइनमेंट 6 प्रश्नों पर आधारित होगा. छात्रों को मूल्यांकन के लिए आवंटित मान्यता प्राप्त संस्थान (AI) में सभी असाइनमेंट को पूरा कर शिक्षकों/ट्यूटर/coordinators को जमा करना अनिवार्य है.

एनआईओएस अन्य शिक्षा बोर्डों से अलग कैसे है?

एनआईओएस माध्यमिक, वरिष्ठ माध्यमिक और स्वैच्छिक शिक्षा के लिए एक ओपन बोर्ड के तौर पर छात्रों के लिए उपलब्ध है जबकि सीबीएसई, आईसीएसई और राज्य बोर्ड जैसे अन्य बोर्ड एक स्कूल सिस्टम का पालन करते हैं.

एनआईओएस 10वीं और 12वीं कक्षा में डिस्टेंस एजुकेशन कार्यक्रम प्रदान करके औपचारिक शिक्षा का विकल्प प्रदान करता है

एनआईओएस के बारे में अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न और उनके उत्तर:

NIOS  से पढ़ाई को लेकर विद्यार्थियों के मन में कई संशय (Doubt) रहते हैं. इन संशय को दूर करने के लिए विद्यार्थयों को कुछ महत्वपूर्ण सवाल और उनके जवाब हमने यहाँ उपलब्ध कराएं हैं. इनकी मददे से विद्यार्थियों को NIOS से जुड़े कई सवालों  के उत्तर मिल जाएंगे.

ये भी पढ़ सकते है-

प्रश्न –1. एनआईओएस (NIOS) क्या है?

उत्तर: राष्ट्रीय मुक्त विद्यालयी शिक्षा संस्थान या एनआईओएस (National Institute of Open Schooling or NIOS) एक शैक्षिक संगठन है जो मुक्त (Open) एवं दूरस्थ माध्यम (Distance learning) से शिक्षा प्रदान करता है और राष्ट्रीय बोर्डों यथा केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) तथा भारतीय स्कूल सर्टिफिकेट परीक्षा परिषद (Council for the Indian School Certificate Examination or CISCE) बोर्डों के समकक्ष स्तर पर पूर्व-स्नातक स्तर (pre-degree level) तक के लिए परीक्षाएं आयोजित करता है और प्रमाणपत्र भी प्रदान करता है.

प्रश्न –2. मुक्त एवं दूरस्थ (Open and Distance Learning or ODL) शिक्षा प्रणाली क्या है?

उत्तर: मुक्त एवं दूरस्थ शिक्षा (ओडीएल) स्व-अध्ययन सामग्री (एसएलएम) और शिक्षार्थियों की गति के आधार पर सुविधाजनक तरीके से शिक्षा के अवसर उपलब्ध कराने की प्रवर्तनकारी संकल्पना है. इस माध्यम में, शिक्षार्थी को एसएलएम (Self Learning Material) के अतिरिक्त पीसीपी (Personal Contract Programme) और टीएमए (Tutor Marked Assessment) के रूप में शैक्षिक सहायता भी उपलब्ध कराई जाती है.

प्रश्न –3. मुक्त विद्यालयी (Open Schooling) शिक्षा और नियमित विद्यालयी (Regular Schooling) शिक्षा व्यवस्था में क्या अंतर है?

उत्तर: नियमित विद्यालयी शिक्षा व्यवस्था एक नियत समय-सारिणी के साथ कक्षा प्रणाली की औपचारिक व्यवस्था में आमने-सामने की एक परम्परागत शिक्षा व्यवस्था है. जबकि मुक्त विद्यालयी शिक्षा शिक्षार्थी की स्व-अध्ययन एक सुविधाजनक विधि से कराने और उसकी तैयारी के अनुसार मूल्यांकन की पद्धति है. मुक्त शिक्षा प्रणाली उन शिक्षार्थियों के लिए अत्यंत उपयोगी है जो आर्थिक, सामाजिक या भौगोलिक कारणों से औपचारिक शिक्षा प्राप्त नहीं कर पाए हैं या किसी प्रकार का रोजगार करने के साथ-साथ शिक्षा भी प्राप्त करना चाहते है

ये भी पढ़े-

 NIOS से जुड़े महत्वपूर्ण सवाल और उनके जवाब को और विस्तार रूप में जाने .

राष्ट्रीय मुक्त विद्यालयी शिक्षा संस्थान (एनआईओएस) या National Institute of Open Schooling (NIOS) मुक्त विद्यालयी शिक्षा प्रणाली (Open Schooling System) को सशक्त करने का निरंतर प्रयास कर रहा है. NIOS  सामान्य तौर पर कुछ ऐसी सुविधाएं मुहैया कराता है जो औपचारिक शिक्षा प्रणाली में उपलब्ध नहीं हैं.

उदहारण के लिए NIOS की कुछ ख़ास सुविधाएं जिसकी वजह से यह औपचारिक शिक्षा प्रणाली से अलग है –

(i) वर्ष भर प्रवेश की सुविधा उपलब्ध है

(ii) पाठ्यक्रमों के व्यापक चयन

(iii) सार्वजनिक परीक्षा (क्रेडिट संचयन की सुविधा के साथ नौ बार परीक्षा में बैठने का मौका)

(iv) जब चाहो तब परीक्षा की सुविधा.

NIOS  से पढ़ाई को लेकर विद्यार्थियों के मन में कई संशय (Doubt) रहते हैं. इन संशय को दूर करने के लिए विद्यार्थयों को कुछ महत्वपूर्ण सवाल और उनके जवाब हमने यहाँ उपलब्ध कराएं हैं. इनकी मददे से विद्यार्थियों को NIOS से जुड़े कई सवालों  के उत्तर मिल जाएंगे.

प्रश्न – 1. एनआईओएस (NIOS) क्या है?

उत्तर –

राष्ट्रीय मुक्त विद्यालयी शिक्षा संस्थान या एनआईओएस (National Institute of Open Schooling or NIOS) एक शैक्षिक संगठन है जो मुक्त (Open) एवं दूरस्थ माध्यम (Distance learning) से शिक्षा प्रदान करता है और राष्ट्रीय बोर्डों यथा केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) तथा भारतीय स्कूल सर्टिफिकेट परीक्षा परिषद (Council for the Indian School Certificate Examination  or CISCE) बोर्डों के समकक्ष स्तर पर पूर्व-स्नातक स्तर (pre-degree level) तक के लिए परीक्षाएं आयोजित करता है और प्रमाणपत्र भी प्रदान करता है.

प्रश्न – 2. मुक्त एवं दूरस्थ (Open and Distance Learning or ODL) शिक्षा प्रणाली क्या है ?

उत्तर –

मुक्त एवं दूरस्थ शिक्षा (ओडीएल) स्व-अध्ययन सामग्री (एसएलएम) और शिक्षार्थियों की गति के आधार पर सुविधाजनक तरीके से शिक्षा के अवसर उपलब्ध कराने की प्रवर्तनकारी संकल्पना है. इस माध्यम में, शिक्षार्थी को एसएलएम (Self Learning Material) के अतिरिक्त पीसीपी (Personal Contract Programme) और टीएमए (Tutor Marked Assessment) के रूप में शैक्षिक सहायता भी उपलब्ध कराई जाती है.

प्रश्न – 3. मुक्त विद्यालयी (Open Schooling) शिक्षा और नियमित विद्यालयी (Regular Schooling) शिक्षा व्यवस्था में क्या अंतर है?

उत्तर –

नियमित विद्यालयी शिक्षा व्यवस्था एक नियत समय-सारिणी के साथ कक्षा प्रणाली की औपचारिक व्यवस्था में आमने-सामने की एक परम्परागत शिक्षा व्यवस्था है. जबकि मुक्त विद्यालयी शिक्षा शिक्षार्थी की स्व-अध्ययन एक सुविधाजनक विधि से कराने और उसकी तैयारी के अनुसार मूल्यांकन की पद्धति है. मुक्त शिक्षा प्रणाली उन शिक्षार्थियों के लिए अत्यंत उपयोगी है जो आर्थिक, सामाजिक या भौगोलिक कारणों से औपचारिक शिक्षा प्राप्त नहीं कर पाए हैं या किसी प्रकार का रोजगार करने के साथ-साथ शिक्षा भी प्राप्त करना चाहते है

प्रश्न – 4. एनआईओएस (NIOS) शिक्षा उपलब्ध कराने की दृष्टि से किसी अन्य संस्थान से किस प्रकार भिन्न है?

उत्तर –

एनआईओएस मुक्त एवं दूरस्थ माध्यम से शिक्षण की शिक्षार्थी केन्द्रित अवधारणा का अनुसरण करता है. यह किसी अन्य औपचारिक शिक्षा प्रणाली की तुलना में अधिक व्यापक स्तर पर शिक्षा के विषय उपलब्ध कराती है. शिक्षार्थी अपनी आवश्यकताओं और लक्ष्यों के आधार पर विषयों के संयोजन का चयन करने के लिए स्वतंत्र हैं. शिक्षार्थी विशेष रूप से तैयार की गई स्व-अध्यियन सामग्री (एसएलएम) से अपनी गति के अनुसार अध्ययन करते हैं. शिक्षार्थी को ऑडियो वीडियो सामग्री उपलब्ध कराई जाती है और अवकाश के दिनों व सप्ताहांतों में अध्ययन केन्द्रों पर प्रत्यक्ष कक्षाएं आयोजित की जाती हैं. शिक्षार्थियों को उनकी तैयारी के अनुसार उनके विषयों की परीक्षा में बैठने की स्वतंत्रता होती है.

प्रश्न – 5. NIOS  द्वारा कौन से पाठ्यक्रम चलाये जा रहे हैं?

उत्तर –

एनआईओएस निम्नलिखित कार्यक्रम/पाठ्यक्रम चलाता है.

(क) मुक्त बेसिक शिक्षा (ओबीई) कार्यक्रम, जिसमें निम्नलिखित तीन स्तर के पाठ्यक्रम शामिल हैं.

(i) ओबीई ‘क’ स्तर का पाठ्यक्रम – तीसरी कक्षा के समकक्ष

(ii) ओबीई ‘ख स्तर का पाठ्यक्रम – पांचवीं कक्षा के समकक्ष

(iii) ओबीई ‘ग’ स्तर का पाठ्यक्रम – आठवीं कक्षा के समकक्ष

(ख) शैक्षिक पाठ्यक्रम

(i) माध्यमिक पाठ्यक्रम – दसवीं कक्षा के समकक्ष

(ii) उच्चतर माध्यमिक पाठ्यक्रम – बारहवीं कक्षा के समकक्ष

(ग) व्यावसायिक शिक्षा पाठ्यक्रम

(घ) जीवन समृद्धि पाठ्यक्रम

आप ये भी पढ़ सकते है-

प्रश्न – 6. क्या एनआईओएस से प्राप्त माध्यमिक/उच्चतर माध्यमिक प्रमाणपत्र को वही मान्यता प्राप्त है जो अन्य बोर्डों को प्राप्त है?

उत्तर –

जी हां. एनआईओएस से प्राप्त माध्यमिक/उच्चतर माध्यमिक प्रमाणपत्रों को वही मान्यता प्राप्त है. जो अन्य बोर्डों द्वारा जारी प्रमाणपत्रों को प्राप्त है. एनआईओएस को दिनांक 14 सितंबर, 1990 में भारत सरकार के संकल्प के तहत माध्यमिक और उच्चतर माध्यमिक स्तर पर सार्वजनिक परीक्षाएं आयोजित करने का प्राधिकार प्राप्त है. इसके अतिरिक्त, एनआईओएस सहित सभी बोर्ड चाहे वे राष्ट्रीय बोर्ड हों या राज्य बोर्ड, राष्ट्रीय पाठ्यचर्या फ्रेमवर्क, 2005 का अनुसरण कर रहे हैं.

अतः एनआईओएस के माध्यमिक और उच्चतर माध्यमिक स्तर के प्रमाणपत्र अन्य बोर्डों के माध्यमिक और उच्चतर माध्यमिक स्तर के प्रमाणपत्रों के समकक्ष और उनके समान हैं.

प्रश्न – 7. NIOS  का संगठनात्मक स्वरूप क्या है?

उत्तर  –

एनआईओएस का मुख्यालय ए-24-25, इंस्टीट्यूशनल एरिया, सेक्टर-62, नोएडा (उत्तर प्रदेश) में स्थित है.

इसके संगठनात्मक स्वरूप में मुख्यालय में पांच विभाग तथा देश के विभिन्न राज्यों/ भागों में उन्नीस क्षेत्रीय केन्द्र, दो उप-क्षेत्रीय केन्द्र तथा एक प्रकोष्ठ शामिल हैं. एनआईओएस के विभाग हैं (i) शैक्षिक (ii) व्यावसायिक शिक्षा (iii) मूल्यांकन (iv) शिक्षार्थी सहायता सेवाएँ और (v) प्रशासन.

प्रश्न – 8. मुझे NIOS के बारे में जानकारी कैसे प्राप्त हो सकती है?

उत्तरः

इसके लिए आप एनआईओएस की वेबसाईट www.nios.ac.in देख सकते हैं या |

इपीएबीएक्सः 0120-4089800, टोल फ्री नंबरः 18001809393 पर फोन द्वारा संपर्क कर सकते हैं.

प्रश्न – 9. क्या भारतीय विश्व विद्यालय संघ ने एनआईओएस प्रमाणपत्रों को समकक्षता प्रदान की है?

उत्तर – 

जी हां. भारतीय विश्वविद्यालय संघ ने दिनांक 25 जुलाई, 1991 के पत्र सं ईवी 11/(354)/91 के तहत भारतीय विश्वविद्यालयों में उच्चतर शिक्षा में प्रवेश के लिए एनआईओएस के पाठ्यक्रमों को मान्यताप्राप्त बोर्डों की अन्य परीक्षाओं के समान समकक्षता प्रदान की है.

प्रश्न – 10. क्या NIOS से उत्तीर्ण माध्यमिक स्तर का शिक्षार्थी किसी अन्य बोर्ड में बारहवीं कक्षा में प्रवेश प्राप्त कर सकता है?

उत्तर – 

जी हां. चूंकि एनआईओएस सहित राष्ट्रीय और राज्य स्तर के सभी बोर्ड एनसीईआरटी द्वारा निर्मित राष्ट्रीय पाठ्यक्रम फ्रेमवर्क-2005 का अनुसरण कर रहे हैं, इसलिए, एनआईओएस से माध्यमिक स्तर की परीक्षा उत्तीर्ण करने वाला शिक्षार्थी किसी अन्य बोर्ड में बारहवीं कक्षा में प्रवेश प्राप्त करने के योग्य है.

प्रश्न – 11. क्या एनआईओएस से उच्चतर माध्यमिक स्तर की परीक्षा पास करने वाला शिक्षार्थी विश्वविद्यालय या व्यावसायिक कॉलेजों में प्रवेश प्राप्त करने के योग्य है?

उत्तर – 

जी हां. एनआईओएस का शिक्षार्थी किसी अन्य विश्वविद्यालय या व्यावसायिक कॉलेज में प्रवेश प्राप्त करने के योग्य है यदि वह उन विश्वविद्यालय/व्यावसायिक कॉलेज के योग्यता मानदंड को पूरा करता हो.

जल्द और सही जानकारी पाने के लिए हमें FaceBook पर Like करे 

कैसी लगी आपको ये NIOS BOARD: शैक्षिक योग्यता, प्रवेश परीक्षाएँ, एडमिशन प्रक्रिया तथा अन्य जानकारी हिंदी में  की पोस्ट,हमें कमेन्ट के माध्यम से अवश्य बताये और आपको किस विषय की नोट्स चाहिए या किसी अन्य प्रकार की दिक्कत जिससे आपकी तैयारी पूर्ण न हो पा रही हो हमे बताये हम जल्द से जल्द वो आपके लिए लेकर आयेगे|

धन्यवाद …..

आप ये भी पड़ सकते है –

  1. CCC Course की पूरी जानकारी हिंदी में – Click Here
  2. “O” Level की पूरी जानकारी हिंदी में – Click Here
  3. CCC New Course Syllabus in hindiClick Here
  4. कौन क्या है GK – CLICK HERE
  5. UP TET 2019 का परीक्षा पाठ्यक्रम हिंदी में– CLICK HERE
  6. UP TET एग्जाम की तैयारी कैसे करेClick Here
  7. CTET 2019: सिलेबस अथवा एग्ज़ाम पैटर्न– Click Here

SarkariJobGuide.com का निर्माण केवल छात्र कोशिक्षा (Educational) क्षेत्र से सम्बन्धित जानकारी उपलब्ध करने के लिए किया गया है, तथा इस पर उपलब्ध पुस्तक/Notes/PDF Material/Books का मालिक SarkariJobGuide.com नहीं है, न ही बनाया और न ही स्कैन किया है। हम सिर्फ Internet पर पहले से उपलब्ध Link और Material प्रदान करते हैं। यदि किसी भी तरह से यह कानून का उल्लंघन करता है या कोई समस्या है तो कृपया हमें Mail करें SarkariJobGuide@gmail.com पर.

सवाल / सुझाव

Leave a Comment

error: Content is protected !!