Notes Study Materials

अनेकार्थी शब्द – List Of Important Solitary word

अनेकार्थी शब्द – List Of Important Solitary word

परिभाषा – ऐसे शब्द, जिनके अनेक अर्थ होते है, अनेकार्थी शब्द कहलाते है।

दूसरे शब्दों में- जिन शब्दों के एक से अधिक अर्थ होते हैं, उन्हें ‘अनेकार्थी शब्द’ कहते है।
अनेकार्थी का अर्थ है – एक से अधिक अर्थ देने वाला।

भाषा में कुछ ऐसे शब्दों का प्रयोग होता है, जो अनेकार्थी होते हैं। खासकर यमक और श्लेष अलंकारों में इसके अधिकाधिक प्रयोग देखे जाते हैं। नीचे लिखे उदाहरणों को देखें-

”करका मनका डारि दैं मन का मनका फेर।” (कबीरदास)
”रहिमन पानी राखिए, बिन पानी सब सून।
पानी गए न ऊबरै, मोती, मानुष, चुन।” (रहीम)
”चली चंचला, चंचला के घर से, तभी चंचला चमक पड़ी।”

उपर्युक्त उदाहरणों में प्रयुक्त शब्दों के अर्थ देखें:
मनका- माला के दाने, मन (चित्त) का
पानी- चमक (मोती के लिए)
इज्जत (मानव के लिए)
जल (चूना, आटे के लिए)
चंचला- लक्ष्मी, स्त्री, बिजली

 

List Of Important Solitary word (प्रमुख अनेकार्थक शब्द की सूची):-

 

शब्दअनेक अर्थ
अंकसंख्या के अंक, नाटक के अंक, गोद, अध्याय, परिच्छेद, चिह्न, भाग्य, स्थान, पत्रिका का नंबर।
अंगशरीर, शरीर का कोई अवयव, अंश, शाखा।
अंचलसिरा, प्रदेश, साड़ी का पल्लू।
अंतसिरा, समाप्ति, मृत्यु, भेद, रहस्य।
अंबरआकाश, वस्त्र, बादल, विशेष सुगन्धित द्रव जो जलाया जाता है।
अक्षरनष्ट न होने वाला, अ, आ आदि वर्ण, ईश्वर, शिव, मोक्ष, ब्रह्म, धर्म, गगन, सत्य, जीव।
अर्कसूर्य, आक का पौधा, औषधियोँ का रस, काढ़ा, इन्द्र, स्फटिक, शराब।
अकालदुर्भिक्ष, अभाव, असमय।
अजब्रह्मा, बकरा, शिव, मेष राशि, जिसका जन्म न हो (ईश्वर)।
अर्थधन, ऐश्वर्य, प्रयोजन, कारण, मतलब, अभिप्रा, हेतु (लिए)।
अक्षधुरी, आँख, सूर्य, सर्प, रथ, मण्डल, ज्ञान, पहिया, कील।
अजीतअजेय, विष्णु, शिव, बुद्ध, एक विषैला मूषक, जैनियोँ के दूसरे तीर्थँकर।
अतिथिमेहमान, साधु, यात्री, अपरिचित व्यक्ति, अग्नि।
अधरनिराधार, शून्य, निचला ओष्ठ, स्वर्ग, पाताल, मध्य, नीचा, पृथ्वी व आकाश के बीच का भाग।
अध्यक्षविभाग का मुखिया, सभापति, इंचार्ज।
अपवादनिँदा, कलंक, नियम के बाहर।
अपेक्षातुलना मेँ, आशा, आवश्यकता, इच्छा।
अमृतजल, दूध, पारा, स्वर्ण, सुधा, मुक्ति, मृत्युरहित।
अरुणलाल, सूर्य, सूर्य का सारथी, सिँदूर, सोना।
अरुणाऊषा, मजीठ, धुँधली, अतिविषा, इन्द्र, वारुणी।
अनन्तसीमारहित, ब्रह्मा, विष्णु, शिव, शेषनाग, लक्ष्मण, बलराम, बाँह का आभूषण, आकाश, अन्तहीन।
अग्रआगे का, श्रेष्ठ, सिरा, पहले।
अब्जशंख, कपूर, कमल, चन्द्रमा, पद्य, जल मेँ उत्पन्न।
अमलमलरहित, कार्यान्वयन, नशा-पानी।
अवस्थाउम्र, दशा, स्थिति।
आकरखान, कोष, स्रोत।
अशोकशोकरहित, एक वृक्ष, सम्राट अशोक।
आरामबगीचा, विश्राम, सुविधा, राहत, रोग का दूर होना।
आदर्शयोग्य, नमूना, उदाहरण।
आमसामान्य, एक फल, मामूली, सर्वसाधारण।
आत्माबुद्धि, जीवात्मा, ब्रह्म, देह, पुत्र, वायु।
आलीसखी, पंक्ति, रेखा।
आतुरविकल, रोगी, उत्सुक, अशक्त।
इन्दुचन्द्रमा, कपूर।
ईश्वरप्रभु, समर्थ, स्वामी, धनिक।
उग्रक्रूर, भयानक, कष्टदायक, तीव्र।
उत्तरजवाब, एक दिशा, बदला, पश्चाताप।
उत्सर्गत्याग, दान, समाप्ति।
उत्पातशरारत, दंगा, हो-हल्ला।
उपचारउपाय, सेवा, इलाज, निदान।
ऋणकर्ज, दायित्व, उपकार, घटाना, एकता, घटाने का बूटी वाला पत्ता।
कंटककाँटा, विघ्न, कीलक।
कंचनसोना, काँच, निर्मल, धन-दौलत।
कनकस्वर्ण, धतूरा, गेहूँ, वृक्ष, पलाश (टेसू)।
कन्याकुमारी लड़की, पुत्री, एक राशि।
कलाअंश, एक विषय, कुशलता, शोभा, तेज, युक्ति, गुण, ब्याज, चातुर्य, चाँद का सोलहवाँ अंश।
करकिरण, हाथ, सूँड, कार्यादेश, टैक्स।
कलमशीन, आराम, सुख, पुर्जा, मधुर ध्वनि, शान्ति, बीता हुआ दिन, आने वाला दिन।
कक्षकाँख, कमरा, कछौटा, सूखी घास, सूर्य की कक्षा।
कर्त्तास्वामी, करने वाला, बनाने वाला, ग्रन्थ निर्माता, ईश्वर, पहला कारक, परिवार का मुखिया।
कलमलेखनी, कूँची, पेड़-पौधोँ की हरी लकड़ी, कनपटी के बाल।
कलिकलड, दुःख, पाप, चार युगोँ मेँ चौथा युग।
कशिपुचटाई, बिछौना, तकिया, अन्न, वस्त्र, शंख।
कालसमय, मृत्यु, यमराज, अकाल, मुहूर्त, अवसर, शिव, युग।
कामकार्य, नौकरी, सिलाई आदि धंधा, वासना, कामदेव, मतलब, कृति।
किनारातट, सिरा, पार्श्व, हाशिया।
कुलवंश, जोड़, जाति, घर, गोत्र, सारा।
कुशलचतुर, सुखी, निपुण, सुरक्षित।
कुंजरहाथी, बाल।
कूटनीति, शिखर, श्रेणी, धनुष का सिरा।
कोटिकरोड़, श्रेणी, धनुष का सिरा।
कोषखजाना, फूल का भीतरी भाग।
क्षुद्रनीच, कंजूस, छोटा, थोड़ा।
खंडटुकड़े करना, हिस्सोँ मेँ बाँटना, प्रत्याख्यान, विरोध।
खगपक्षी, बाण, देवता, चन्द्रमा, सूर्य, बादल।
खरगधा, तिनका, दुष्ट, एक राक्षस, तीक्ष्ण, धतूरा, दवा कूटने की खरल।
खतपत्र, लिखाई, कनपटी के बाल।
खलदुष्ट, चुगलखोर, खरल, तलछट, धतूरा।
खेचरपक्षी, देवता, ग्रह।
गंदामैला, अश्लील, बुरा।
गडओट, घेरा, टीला, अन्तर, खाई।
गणसमूह, मनुष्य, भूतप्रेत, शिव के अनुचर, दूत, सेना।
गतिचाल, हालत, मोक्ष, रफ्तार।
गद्दीछोटा गद्दा, महाजन की बैठकी, शिष्य परम्परा, सिँहासन।
गहनगहरा, घना, दुर्गम, जटिल।
ग्रहणलेना, सूर्य व चन्द ग्रहण।
गुणकौशल, शील, रस्सी, स्वभाव, विशेषता, हुनर, महत्त्व, तीन गुण (सत, तम व रज), प्रत्यंचा (धनुष की डोरी)।
गुरुशिक्षक, बड़ा, भारी, श्रेष्ठ, बृहस्पति, द्विमात्रिक अक्षर, पूज्य, आचार्य, अपने से बड़े।
गौगाय, बैल, इन्द्रिय, भूमि, दिशा, बाण, वज्र, सरस्वती, आँख, स्वर्ग, सूर्य।
घटघड़ा, हृदय, कम, शरीर, कलश, कुंभ राशि।
घरमकान, कुल, कार्यालय, अंदर समाना।
घनबादल, भारी हथौड़ा, घना, छः सतही रेखागणितीय आकृति।
घोड़ाएक प्रसिद्ध चौपाया, बंदूक का खटका, शतरंज का एक मोहरा।
चक्रपहिया, भ्रम, कुम्हार का चाक, चकवा पक्षी, गोल घेरा।
चपलालक्ष्मी, बिजली, चंचल स्त्री।
चश्माऐनक, झरना, स्रोत।
चीरवस्त्र, रेखा, पट्टी, चीरना।
छन्दपद, विशेष, जल, अभिप्राय, वेद।
छापछापे का चिह्न, अँगूठी, प्रभाव।
छावाबच्चा, बेटा, हाथी का पट्ठा।
जलजकमल, मोती, मछली, चंद्रमा, शंख, शैवाल, काई, जलजीव।
जलदबादल, कपूर।
जलधरबादल, समुद्र, जलाशय।
जवानसैनिक, योद्धा, वीर, युवा।
जनकपिता, मिथिला के राजा, उत्पन्न करने वाला।
जड़अचेतन, मूर्ख, वृक्ष का मूल, निर्जीव, मूल कारण।
जीवनजल, प्राण, आजीविका, पुत्र, वायु, जिन्दगी।
टंकतोल, छेनी, कुल्हाड़ी, तलवार, म्यान, पहाड़ी, ढाल, क्रोध, दर्प, सिक्का, दरार।
ठसबहुत कड़ा, भारी, घनी बुनावट वाला, कंजूस, आलसी, हठी।
ठोकनामारना, पीटना, प्रहार द्वारा भीतर धँसाना, मुकदमा दायर करना।
डहकनावंचना, छलना, धोखा खाना, फूट-फूटकर रोना, चिँघाड़ना, फैलना, छाना।
ढर्रारूप, पद्धति, उपाय, व्यवहार।
तंगसँकरा, पहनने मेँ छोटा, परेशान।
तंतुसूत, धागा, रेशा, ग्राह, संतान, परमेश्वर।
तटकिनारा, प्रदेश, खेत।
तपसाधना, गर्मी, अग्नि, धूप।
तमअन्धकार, पाप, अज्ञान, गुण, तमाल वृक्ष।
तरंगस्वर लहरी, लहर, उमंग।
तरीनौका, कपड़े का छोर, शोरबा, तर होने की अवस्था।
तरणिसूर्य, उद्धार।
तातपिता, भाई, बड़ा, पूज्य, प्यारा, मित्र, श्रद्धेय, गुरु।
तारानक्षत्र, आँख की पुतली, बालि की पत्नी का नाम।
तीरकिनारा, बाण, समीप, नदी तट।
थापथप्पड़, आदर, सम्मान, मर्यादा, गौरव, चिह्न, तबले पर हथेली का आघात।
दंडसजा, डंडा, जहाज का मस्तूल, एक प्रकार की कसरत।
दक्षिणदाहिना, एक दिशा, उदार, सरल।
दर्शनदेखना, नेत्र, आकृति, दर्पण, दर्शन शास्त्र।
दलसमूह, सेना, पत्ता, हिस्सा, पक्ष, भाग, चिड़ी।
दामधन, मूल्य, रस्सी।
द्विजपक्षी, ब्राह्मण, दाँत, चन्द्रमा, नख, केश, वैश्य, क्षत्रिय।
धनसम्पत्ति, स्त्री, भूमि, नायिका, जोड़ मिलाना।
धर्मस्वभाव, प्राकृतिक गुण, कर्तव्य, संप्रदाय।
धनंजयवृक्ष, अर्जुन, अग्नि, वायु।
ध्रुवअटल सत्य, ध्रुव भक्त, ध्रुव तारा।
धारणाविचार, बुद्धि, समझ, विश्वास, मन की स्थिरता।
नगपर्वत, नगीना, वृक्ष, संख्या।
नागसर्प, हाथी, नागकेशर, एक जाति विशेष।
नायकनेता, मार्गदर्शक, सेनापति, एक जाति, नाटक या महाकाव्य का मुख्य पात्र।
निऋतिविपत्ति, मृत्यु, क्षय, नाश।
निर्वाणमोक्ष, मृत्यु, शून्य, संयम।
निशाचरराक्षस, उल्लू, प्रेत।
निशानध्वजा, चिह्न।
पक्षपंख, पांख, सहाय, ओर, शरीर का अर्द्ध भाग।
पटवस्त्र, पर्दा, दरवाजा, स्थान, चित्र का आधार।
पत्रचिट्ठी, पत्ता, रथ, बाण, शंख, पुस्तक का पृष्ठ।
पद्मकमल, सर्प विशेष, एक संख्या।
पदपाँव, चिह्न, विशेष, छन्द का चतुर्थाँश, विभक्ति युक्त शब्द, उपाधि, स्थान, ओहदा, कदम।
पतंगपतिँगा, सूर्य, पक्षी, नाव, उड़ाने का पतंग।
पयदूध, अन्न, जल।
पयोधरबादल, स्तन, पर्वत, गन्ना, तालाब।
पानीजल, मान, चमक, जीवन, लज्जा, वर्षा, स्वाभिमान।
पुष्करतालाब, कमल, हाथी की सूँड, एक तीर्थ, पानी मद।
पृष्ठपीठ, पीछे का भाग, पुस्तक का पेज।
प्रत्यक्षआँखोँ के सामने, सीधा, साफ।
प्रकृतिस्वभाव, वातावरण, मूलावस्था, कुदरत, धर्म, राज्य, खजाना, स्वामी, मित्र।
प्रसादकृपा, अनुग्रह, हर्ष, नैवेद्य।
प्राणजीव, प्राणवायु, ईश्वर, ब्रह्म।
फललाभ, खाने का फल, सेवा, नतीजा, लब्धि, पदार्थ, सन्तान, भाले की नोक।
फेरघुमाव, भ्रम, बदलना, गीदड़।
बंधनकैद, बाँध, पुल, बाँधने की चीज।
बट्टापत्थर का टुकड़ा, तौल का बाट, काट।
बलसेना, ताकत, बलराम, सहारा, चक्कर, मरोड़।
बलिबलिदान, उपहार, दानवीर राजा बलि, चढ़ावा, कर।
बाजिघोड़ा, बाण, पक्षी, चलने वाला।
बालबालक, केश, बाला, दानेयुक्त डंठल (गेहूँ की बाल)।
बिजलीविद्युत, तड़ति, कान का एक गहना।
बैठकबैठने का कमरा, बैठने की मुद्रा, अधिवेशन, एक कसरत।
भवसंसार, उत्पति, शंकर।
भागहिस्सा, दौड़, बाँटना, एक गणितीय संक्रिया।
भुजंगसर्प, लम्पट, नाग।
भुवनसंसार, जल, लोग, चौदह की संख्या।
भृतिनौकरी, मजदूरी, वेतन, मूल्य, वृत्ति।
भेदरहस्य, प्रकार, भिन्नता, फूट, तात्पर्य, छेदन।
मतसम्मति, धर्म, वोट, नहीँ, विचार, पंथ।
मदारमस्त हाथी, सुअर, कामुक।
मधुशहद, मदिरा, चैत्र मास, एक दैत्य, बसंत ऋतु, पराग, मीठा।
मानसम्मान, घमंड, रूठना, माप।
मित्रसूर्य, दोस्त, वरुण, अनुकूल, सहयोगी।
मूकगूँगा, चुप, विवश।
मूलजड़, कंद, पूँजी, एक नक्षत्र।
मोहप्यार, ममता, आसक्ति, मूर्च्छा, अज्ञान।
यंत्रउपकरण, बंदूक, बाजा, ताला।
युक्तजुड़ा हुआ, मिश्रित, नियुक्त, उचित।
योगमेल, लगाव, मन की साधना, ध्यान, शुभकाल, कुल जोड़।
रंगवर्ण, नाच-गान, शोभा, मनोविनोद, ढंग, रोब, युद्धक्षेत्र, प्रेम, चाल, दशा, रँगने की सामग्री, नृत्य या अभिनय का स्थान।
रसस्वाद, सार, अच्छा देखने से प्राप्त आनन्द, प्रेम, सुख, पानी, शरबत।
रागप्रेम रंग, लाल रंग, संगीत की ध्वनि (राग)।
राशिसमूह, मेष, कर्क, वृश्चिक आदि राशियाँ।
रेणुकाधूल, पृथ्वी, परशुराम की माता।
लक्ष्यनिशाना, उद्देश्य, लक्षणार्थ।
लयतान, लीन होना।
लहरतरंग, उमंग, झोँका, झूमना।
लालबेटा, एक रंग, बहुमूल्य पत्थर, एक गोत्र।
लावाएक पक्षी, खील, लावा।
वनजंगल, जल, फूलोँ का गुच्छा।
वरअच्छा, वरदान, श्रेष्ठ, उत्तम, पति (दुल्हा)।
वर्णअक्षर, रंग, रूप, भेद, चातुर्वर्ण्य (ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य व शूद्र), जाति।
वारदिन, आक्रमण, प्रहार।
वृत्तिकार्य, स्वभाव, नीयत, व्यापार, जीविका, छात्रवृत्ति।
विचारध्यान, राय, सलाह, मान्यता।
विधितरीका, विधाता, कानून, व्यवस्था, युक्ति, राख, महिमामय, पुरुष।
विवेचनतर्क-वितर्क, परीक्षण, सत्-असत् विचार, निरुपण।
व्योमआकाश, बादल, जल।
शक्तिताकत, अर्थवत्ता, अधिकार, प्रकृति, माया, दुर्गा।
शिवभाग्यशाली, महादेव, शृगाल, देव, मंगल।
श्रीलक्ष्मी, सरस्वती, सम्पत्ति, शोभा, कान्ति, कोयल, आदर सूचक शब्द।
संधिजोड़, पारस्परिक, युगोँ का मिलन, निश्चित, सेँध, नाटक के कथांश, व्याकरण मेँ अक्षरोँ का मेल।
संस्कारपरिशोधन, सफाई, धार्मिक कृत्य, आचार-व्यवहार, मन पर पड़ने वाले प्रभाव।
सम्बन्धरिश्ता, जोड़, व्याकरण मेँ अक्षरोँ का मेल-जोल, छठा कारक।
सरअमृत, दूध, पानी, तालाब, गंगा, मधु, पृथ्वी।
सरलसीधा, ईमानदार, खरा, आसान।
साधनउपाय, उपकरण, सामान, पालन, कारण।
सारंगएक राग, मोर की बोली, चातक, मोर, सर्प, बादल, हिरन, पपीहा, राजहंस, हाथी, कोयल, कामदेव, सिंह, धनुष, भौंरा, मधुमक्खी, कमल, स्त्री, दीपक, वस्त्र, हवा, आँचल, घड़ा, कामदेव, पानी, राजसिँह, कपूर, वर्ण, भूषण, पुष्प, छत्र, शोभा, रात्रि, शंख, चन्दन।
सारतत्त्व, निष्कर्ष, रस, रसा, लाभ, धैर्य।
सिराचोटी, अंत, समाप्ति।
सुधाअमृत, जल, दुग्ध।
सुरभिसुगंध, गौ, बसंत ऋतु।
सूतधागा, सारथी, गढ़ई।
सूत्रसूत, जनेऊ, गूढ़ अर्थ भरा संक्षिप्त वाक्य, संकेत, पता, नियम।
सूरसूर्य, वीर, अंधा, सूरदास।
सैँधवघोड़ा, नमक, सिन्धुवासी।
हंसजीव, सूर्य, श्वेत, योगी, मुक्त पुरुष, ईश्वर, सरोवर का पक्षी (मराल पक्षी)।
हँसाईहँसी, निन्दा, बदनामी, उपहास।
हयघोड़ा, इन्द्र।
हरिहाथी, विष्णु, इंद्र, पहाड़, सिंह, घोड़ा, सर्प, वानर, मेढक, यमराज, ब्रह्मा, शिव, कोयल, किरण, हंस, इन्द्र, वानर, कृष्ण, कामदेव, हवा, चन्द्रमा।
हलसमाधान, खेत जोतने का यंत्र, व्यंजन वर्ण।
हस्तीहाथी, अस्तित्व, हैसियत।
हितभलाई, लोभ।
हीनदीन, रहित, निकृष्ट, थोड़ा।
क्षेत्रतीर्थ, खेत, शरीर, सदाव्रत देने का स्थान।
त्रुटिभूल, कमी, कसर, छोटी इलाइची का पौधा, संशय, काल का एक सूक्ष्म विभाग, अंगहीनता, प्रतिज्ञा-भंग, स्कंद की एक माता।

Related Post:-

  • पर्यायवाची शब्द (समानार्थक शब्द)- Click Here
  • विलोम शब्द / विपरीतार्थक शब्द- Click Here
  • मुहावरे, लोकोक्तियाँ – अर्थ और वाक्य-प्रयोग- Click Here
  • Hindi Vyakaran PDF Notes in Hindi(हिंदी व्याकरण नोट्स)- Click Here

PDF DOWNLOAD  करने के लिए पस्वोर्ड है – sarkarijobguide.com
word solitary

ये भी पढ़े-

जल्द और सही जानकारी पाने के लिए हमें FaceBook पर Like करे sarkarijobguide

SarkariJobGuide

कैसी लगी आपको ये अनेकार्थी शब्द – {List Of Important Solitary word} नयी पेशकश हमें कमेन्ट के माध्यम से अवश्य बताये और आपको किस विषय की नोट्स चाहिए या किसी अन्य प्रकार की दिक्कत जिससे आपकी तैयारी पूर्ण न हो पा रही हो हमे बताये हम जल्द से जल्द वो आपके लिए लेकर आयेगे|

धन्यवाद——-

आप ये भी पढ़ सकते है-

SarkariJobGuide.com का निर्माण केवल छात्र को शिक्षा (Educational) क्षेत्र से सम्बन्धित जानकारी उपलब्ध करने के लिए किया गया है, तथा इस पर उपलब्ध पुस्तक/Notes/PDF Material/Books का मालिक SarkariJobGuide.com नहीं है, न ही बनाया और न ही स्कैन किया है। हम सिर्फ Internet पर पहले से उपलब्ध Link और Material प्रदान करते हैं। यदि किसी भी तरह से यह कानून का उल्लंघन करता है या कोई समस्या है तो कृपया हमें Mail करें SarkariJobGuide@gmail.com पर

Leave a Comment

error: Content is protected !!