Notes Study Materials

भारत पर किस किस ने शासन किया

नमस्कार दोस्तो ,

एक बार फिर से www.sarkarijobguide.com पर आपका स्वागत है  , दोस्तों इस पोस्ट मे  हम आपको भारत पर किस किस ने शासन किया  की जानकारी उपलब्ध करा रहे है ! जो आपके आगामी प्रतियोगी परीक्षाओ के लिए बहुत Important है , तो दोस्तों उम्मीद है यह जानकारी आपके लिए काफी महत्वपूर्ण साबित होगी|

प्राचीन समय से भारत अपने विशाल धन, मसाले, सोने और प्राकृतिक संसाधनों के एक विशाल विस्तार के कारण अंतरराष्ट्रीय सुर्खियों में रहा है। यही कारण है कि भारत को एक समय में गोल्डन बर्ड या सोने की चिडिया के रूप में जाना जाता था और अपने इसी अथाह धन का फायदा उठाने के लिए कई देशों के राजवंशों ने बार-बार भारत पर आक्रमण किया जिनमें कुषाण, हुन, अफगान, तुर्क, खिलजी, लोधी और मुगलों से लेकर अंग्रेज शामिल थे।

यहां तक ​​कि अलेक्जेंडर, प्राचीन यूनानी राज्य के महान शासक, ने भी भारत पर आक्रमण करने के लिए 326 ईसा पूर्व में यवन की एक विशाल सेना के साथ कई मीलों दूरी की यात्रा की। हालांकि उनकी जीतने वाली प्रभावशाली सेना को अंततः हाइडस्पस नदी में एक दुर्भाग्यपूर्ण हादसे का शिकार होना पड़ा जहां पौरव साम्राज्य के सबसे शक्तिशाली राजा पोरस (वर्तमान पंजाब क्षेत्र में फैले हुए) से उनकी खूनी लड़ाई का युद्ध हुआ और अलेक्जेंडर की सेना को मुँह की खानी पड़ी।

कुल मिलाकर यदि हम भारत के शासकों के विशाल इतिहास की ओर देखे तो हम देखते हैं कि भारत में कई छोटे राज्यों ने शासन किया है जबकि शक्तिशाली केन्द्र ज्यादातर मगध और दक्षिणी भारत के शासकों में विभाजित है। एकीकृत देश के रूप में हिमालय क्षेत्र से लेकर भारतीय महासागर तक फैले छोटे राज्यों को एक साथ लाना ब्रिटिश शासन के युग के दौरान ही संभव हो सका। अंत में भारत में ब्रिटिश शासन लगभग 1947 में भारत स्वतंत्रता संग्राम के 200 वर्षों के बाद समाप्त हो पाया। जहाँ तक भारत के शासकों के इतिहास का संबंध है – यह 6वीं शताब्दी ई.पू. के मध्य से शुरू हुआ था जब मगध के हरयंक वंश उत्तर भारत में अपने समकक्षों के बीच सबसे शक्तिशाली शासक के रूप में उभरा। यहां हम महान सम्राटों का संक्षिप्त इतिहास बताने जा रहे हैं जिन्होंने लगभग पूरे भारत पर शासन किया।

भारत पर किस-किस ने राज किया? (Who all Ruled India)

हरयंक वंश (544 ईसा पूर्व – 413 ईसा पूर्व)

हरयक वंश ने वर्तमान में बिहार, झारखंड, पश्चिम बंगाल, उड़ीसा, बांग्लादेश और नेपाल के रूप में जाना जाने वाले क्षेत्र का गठन किया था जो कि मगध के नाम से जाना जाता था और आज के दिन पाटलीपुत्र। बिम्बिसार द्वारा स्थापित हरयक वंश ब्रह्द्रथ द्वारा स्थापित बरहदथ वंश को पराजित करने के बाद उभर कर आया। हरयक वंश की राजधानी राजगीर थी और इस राजवंश का सबसे शक्तिशाली राजा अजातशत्रु, बिंबिसार का पुत्र था। अजातशत्रु ने अपने पिता बिंबिसार को जेल में जकड़ दिया और मगध के सिंहासन पर कब्ज़ा कर लिया। बाद में अजातशत्रु ने वैशाली गणतंत्र के खिलाफ एक युद्ध लड़ा था जिस पर लिच्छवी वंश का शासन था। अजातशत्रु ने वैशाली पर कब्जा कर लिया और अपने राज्य की सीमाओं के विस्तार किया और उसने अपने सभी पड़ोसी छोटे राज्यों जैसे कोसला और काशी आदि को हराया। अजातशत्रु के शासन के समय मगध उत्तरी भारत का सबसे शक्तिशाली राज्य बन गया। नागदासक हरयक वंश के अंतिम शासक थे।

शिशुनाग वंश (544 ईसा पूर्व – 413 ईसा पूर्व)

हरयक राजवंश का सफाया शिशुनाग राजवंश ने किया जो मगध में एक अमात्य था। उन्होंने हरयक वंश के खिलाफ लोगों द्वारा विद्रोह का नेतृत्व किया और मगध के सिंहासन पर कब्जा कर लिया और पाटलीपुत्र को अपनी राजधानी बनाया। शिशुनाग वैशाली के लिच्छवी शासकों में से एक का पुत्र था। शिशुनाग ने सिंध, कराची, लाहौर, हेरात, मुल्तान, कंधार और वेल्लोर के अलावा आज के समय में राजस्थान के जयपुर तक अपने राज्य का विस्तार किया। यहां तक ​​कि शिशुनाग राजवंश ने अपने राज्य का विस्तार दक्षिण में मदुरै और कोच्चि तथा पूर्व में मुर्शिदाबाद और पश्चिम में मंडल तक फैलाया। शिशुनाग का उत्तराधिकारी उसका पुत्र काकवरणा या कालाशोका के बाद उनके दस बेटे उसके उत्तराधिकारी बने। बाद में नंद साम्राज्य ने इस राज्य के सिंहासन पर कब्जा कर लिया।

नंद वंश (345 ईसा पूर्व – 321 ईसा पूर्व)

नंद साम्राज्य 345 ईसा पूर्व मगध में महापद्म नंद द्वारा स्थापित किया गया था जिसने शिशुनाग के अलावा कई अन्य राज्यों जैसे हयात, कुरुस, कलिंगस आदि को हराया था और उन्होंने विंध्य रेंज तक दक्षिण की ओर अपने क्षेत्र का विस्तार भी किया था। महापद्म नंद के नौ पुत्रों में से एक धना नंद नंद साम्राज्य के अंतिम शासक थे। नंद साम्राज्य एक शक्तिशाली साम्राज्य था जिसमें एक विशाल सेना के साथ-साथ सबसे शक्तिशाली कैवलरी, हाथी और पैदल सेना शामिल थी। धना नंद अंतिम नंद सम्राट थे और चंद्रगुप्त मौर्य ने उन्हें पराजित किया था जिन्होंने मौर्य साम्राज्य की स्थापना की थी।

ये भी पड़े :-

करंट अफेयर्स फरवरी 2020 (Date Wise) Click Here

करंट अफेयर्स जनवरी  2020 (Date Wise)Click Here

बर्ष 2014 से 2019 तक शुरु की गई महत्वपूर्ण सरकारी योजनाऐंClick Here

संयुक्‍त सैन्‍य अभ्‍यास : 2019 – 2020Click Here

वर्ष 2018 – 2019 में होने वाली प्रमुख राष्ट्रीय व अंतर्राष्ट्रीय नियुक्तियांClick Here

विश्व की प्रमुख उत्पादन क्रांतियां – Click Here

भारत के महान मुगल सम्राटों की पूरी सूची – Click Here

दिल्ली सल्तनत के शासक – पूरी सूची – Click Here

मौर्य वंश (321 ईसा पूर्व –184 ईसा पूर्व)

चाणक्य की सहायता से चन्द्रगुप्त मौर्य ने 322 ईसा पूर्व में मगध में मौर्य साम्राज्य की स्थापना की थी और इसका 5 लाख वर्ग किलोमीटर तक विस्तार किया था। इस प्रकार यह 316 ईसा पूर्व में दुनिया का सबसे बड़ा साम्राज्य था। चंद्रगुप्त मौर्य के पौत्र, अशोक, मौर्य वंश के एक और शक्तिशाली सम्राट थे जिन्होंने संपूर्ण भारतीय उपमहाद्वीप पर कब्जा कर लिया और आज के समय में असम, बलूचिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश तक अपने राज्य का विस्तार किया। अशोक ने बाद में कलिंग पर विजय प्राप्त की लेकिन एक गंभीर लड़ाई के बाद बड़े पैमाने पर हत्याओं को देखकर अशोक को बहुत दुःख पहुँचा और अहिंसा के पाठ का अभ्यास करने के बाद वह बौद्ध धर्म का अनुयायी बन गया। अशोक ने अपनी मृत्यु तक 36 वर्षों की अवधि तक शासन किया। अगले 56 वर्षों तक मौर्य साम्राज्य अस्तित्व में रहा। ब्रह्द्रता अंतिम मौर्य शासक था जिसे उनके कमांडर इन चीफ पुष्यमित्र शुंग ने मारा।

शक राजवंश या इंडो-सिसिंथियन (200 ईसा पूर्व – 400 ईसा पूर्व)

उत्तर-पश्चिमी भारत में आक्रमण करने और स्थायित्व करने वाले शक मध्य एशिया के भटकल जनजाति से सम्बन्ध रखते थे। माउस भारत में पहला शक शासक था और उन्होंने तक्षशिला अपनी राजधानी बनायी। उसके बाद एज़ेस प्रथम और एज़ेस द्वितीय ने अपना राज्य पंजाब तक बढ़ाया। शक शासकों को शक सतराप कहा जाता था। ज्यादा प्रगति करने के लिए मथुरा के शक सतराप प्रसिद्ध थे। उत्तर भारत के अलावा शक भी दक्षिण में प्रवेश कर गुजरात में काठियावाड़ और कच्छ तथा महाराष्ट्र तक विस्तारित हुए। उज्जैन शासकों के शक वंशज को पश्चिमी पट्टियों के रूप में बुलाया जाता था और वे अपने क्षेत्र में सबसे प्रमुख बन गए थे। चस्तना उज्जैन के शक राज्य के संस्थापक थे। शक राजा रूद्राद्रम एक महान योद्धा था जिसने आज के समय के आंध्र प्रदेश पर विजय प्राप्त की और आंध्र राजा श्री पल्मवी को हराया। रुद्रद्रमण की मृत्यु के बाद शक राज्य सत्रह उत्तराधिकारियों का साक्षी बना।

शुंग वंश (185 ईसा पूर्व – 73 ईसा पूर्व)

185 ईसा पूर्व वर्ष में मौर्य शासक ब्रह्द्रथ को मारने के बाद पुष्यमित्र शुंग ने शुंग वंश को स्थापित किया और अगले 36 सालों तक इस क्षेत्र पर शासन किया। पुष्यमित्र शुंग के पुत्र अग्निमित्रा उनके उत्तराधिकारी बने। इसके बाद कुल दस शुंग शासक एक के बाद एक सिंहासन पर बैठे और फिर 73 ईसा पूर्व में कणव्या राजवंश ने सिंहासन पर हमला किया और कब्ज़ा कर लिया।

कानव राजवंश (73 ईसा पूर्व – 26 ईसा पूर्व)

वासुदेव नामक कानव शासक ने मगध में कानव राजवंश की स्थापना की। उनके पुत्र भुमिमित्रा ने अगले चौदह वर्ष तक शासन किया। भूमिमित्रा के पुत्र नारायण ने अगले 12 साल तक शासन किया। नारायण के पुत्र सुष्मन कानव वंश के अंतिम राजा थे।

कुषाण साम्राज्य (30 ईस्वी – 230 ईस्वी)

पहली शताब्दी की शुरुआत में कुषाण साम्राज्य को बैटेरियन क्षेत्रों में युजेही द्वारा स्थापित किया गया था और यह अफगानिस्तान और उत्तरी भारत में वाराणसी तक फैला हुआ था। कुषाण वंश के सबसे शक्तिशाली शासक काजुला कडाफिज़्स या केदैफ़ेज्स प्रथम थे जो अपने शासन के दौरान सोने के सिक्के जारी करने के लिए जाने जाते थे। कनिष्क इस वंश के महान राजाओं में से एक थे जिन्होंने भारतीय उपमहाद्वीप में दक्षिण तक अपने राज्य का विस्तार कर दिया था। गुप्त और अन्य समकालीन भारतीय राज्यों ने इस साम्राज्य को अर्ध स्वतंत्र राज्यों में विखंडित कर दिया।

सात्वाह्न साम्राज्य (271 ईसा पूर्व – 220 ईसा पूर्व)

दक्कन क्षेत्र में सात्वाह्न राजवंश में तेलंगाना सहित महाराष्ट्र और आंध्र प्रदेश शामिल था और उनका शासन क्षेत्र भी मध्य प्रदेश और कर्नाटक तक था। गौतमपुत्र सतकर्णि इस वंश का सबसे शक्तिशाली राजाओं में से एक था। उसके बाद वसिष्ठपुत्र पदमवी राजा हुए। गौतमपुत्र सतकर्णि की मृत्यु के बाद राज्य का विघटन हुआ और यह तीसरी शताब्दी की शुरुआत में समाप्त हो गया। सात्वाह्न वंश को शक और कुषाण के निरंतर आक्रमणों का सामना करना पड़ा। अपने राजाओं के चित्रों और अपने राज्य में सिक्कों की शुरुआत के लिए इतिहास में सात्वाह्न प्रसिद्ध है। सात्वाह्न वंश का तीसरी शताब्दी की शुरुआत के निकट अंत हो गया।

गुप्त वंश (220 ईस्वी – 550 ईस्वी)

भारतीय इतिहास में स्वर्ण युग की शुरूआत करते हुए श्रीगुप्त ने गुप्त साम्राज्य की स्थापना की जिसने 320 ईसा पूर्व से लेकर 550 ईसा पूर्व तक अवधि में भारत पर शासन किया था। इस अवधि के दौरान गुप्त राजा पूरे क्षेत्र में शांति और समृद्धि सुनिश्चित करने में सफल रहे। इसके परिणामस्वरूप विज्ञान और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में विकास और आविष्कार हुए। कला और इंजीनियरिंग के साथ ही गणित में भी। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि इस अवधि में हिंदू संस्कृति का प्रसार हुआ। चंद्रगुप्त प्रथम और समुद्रगुप्त गुप्त वंश के प्रसिद्ध शासकों थे। अजंता, एलोरा और एलीफांटा इस अवधि के प्रसिद्ध स्मारक और मूर्तियां हैं जिनमें बौद्ध, जैन और हिंदुओं की निर्माण में उनकी कला की छाप है। देवगढ़ में हिंदू उदयगिरि गुफाएं और दशावतार मंदिर इस काल के कुछ और प्रसिद्ध ऐतिहासिक अवशेष हैं।

चालुक्य साम्राज्य (543 ईस्वी – 753 ईस्वी)

यह एक प्रमुख दक्षिण भारतीय वंश था जिसे बाद में केंद्रीय भारत तक विस्तारित किया गया था। पुलकेशिन II चालुक्य वंश के महान शासकों में से एक था जो वास्तुशिल्प विकास के अलावा प्रशासनिक उत्कृष्टता और विदेशी व्यापार संबंधों के लिए जाना जाता है। चालुक्य के शासन के दौरान, कन्नड़ और तेलगू साहित्य में काफी विकास हुआ।

चोल साम्राज्य (848 ईस्वी – 1251 ईस्वी)

चोल वंश को दक्षिण भारत में सबसे बड़ा राज्य माना जाता था जो 985 ईसा पूर्व में स्वर्ण युग का साक्षी बना जब राजा ने कार्यभार संभाला। उन्होंने अपने राज्य को श्रीलंका द्वीप तक बढ़ाया और उनके उत्तराधिकारी राजेंद्र चोल ने पाल राजा महिपाल को पराजित किया और गंगा नदी के आसपास के क्षेत्र पर कब्जा कर लिया।

चेरा साम्राज्य (300 ईस्वी – 1102 ईस्वी)

चेरा साम्राज्य को प्राचीन द्रविड़ साम्राज्य भी कहा जाता है जिसने प्रमुखता से केरल और तमिलनाडु पर शासन किया। पश्चिम एशिया, रोम और ग्रीस के साथ व्यापार संबंध स्थापित करने के लिए चेरा शासकों को भी इतिहास में जाना जाता है। संग्राम साहित्य चेरा साम्राज्य के बारे में ज्ञान का स्रोत है। संगम साहित्य के अनुसार नेदुम चेरलाथन चेरा शासकों में से एक थे जिन्होंने 58 वर्षों तक राज्य पर शासन किया था।

ये भी पड़ सकते है : Trick के साथ

मुगल वंश के के सभी शासकों की सूचि क्रमवार – Click Here

महापुरुषों के समाधि स्थल – Click Here

महात्मा गाँधी द्वारा संचालित आंदोलन– Click Here

प्रमुख अम्लो के प्राक्रतिक स्त्रोत- हिंदी में –Click Here

भारत की आज तक के विश्व सुंदरियों के नाम व देशClick Here

दिल्ली सल्तनत (1206 ईस्वी -1526 ईस्वी)

वर्ष 1206 ईस्वी में दिल्ली सल्तनत की स्थापना तुर्क द्वारा की गई थी जो मध्य एशिया से आए थे और उत्तर भारत के अधिकांश हिस्से पर कब्ज़ा कर लिया था। वर्ष 1206 में गुलाम राजवंश भारत में कुतुब-उद-दीन-ऐबक द्वारा स्थापित किया गया था। वर्ष 1290 में जलाल-उद-दीन फिरोज खिलजी ने दिल्ली सल्तनत में खिलजी वंश की स्थापना की थी जबकि 1321 में घियास-उद-दीन तुगलक ने तुगलक वंश की स्थापना की थी। 1414 से 1451 तक सईद राजवंश ने दिल्ली सल्तनत में तुगलक राज को खत्म कर राज़ किया। वर्ष 1451 में बहलोल लोदी के नेतृत्व में लोदी वंश ने दिल्ली सल्तनत पर कब्ज़ा कर लिया और 1526 में मुगलों के आने तक शासन किया। उस अवधि में सबसे शक्तिशाली हिंदू राज्य विजयनगर, राजपूत राज्य, मेवाड़, अहोम आदि थे।

निम्नलिखित राजवंशों ने दिल्ली सल्तनत के युग में एक के बाद एक बार शासन किया जो 1206 ईस्वी से 1526 ईस्वी तक फैला था:

  • दास वंश या मामलुक वंश (1206 ईस्वी -1290 ईस्वी)
  • खिलजी वंश (1290 ईस्वी -1320 ईस्वी)
  • तुगलक वंश (1320 ईस्वी- 1414 ईस्वी)
  • सय्यद वंश (1414 ईस्वी -1451 ईस्वी)
  • लोदी वंश (1451 ईस्वी- 1526 ईस्वी)
मुगल साम्राज्य (1526 ईस्वी- 1858 ईस्वी)

लोधी साम्राज्य को नष्ट करने के बाद मुगल साम्राज्य ने अपना विस्तार किया और भारत के अधिकांश हिस्से को अपने कब्जे में ले लिया और 18वीं शताब्दी तक आसानी से शासन किया जब तक लंदन स्थित ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा ब्रिटिश अधिग्रहण शुरू नहीं हुआ। 1526 ईस्वी में लोदी राजवंश के अंतिम शासक इब्राहिम लोदी को परास्त करने के बाद बाबर ने मुगल साम्राज्य की स्थापना की थी। मुगल साम्राज्य के सबसे शक्तिशाली मुगल शासकों में हुमायूं, अकबर, जहांगीर, शाहजहां और औरंगजेब, शामिल थे। मुगलों ने न केवल सफलतापूर्वक पूरे भारत को कब्जा कर लिया बल्कि उन्होंने अपनी सीमाओं को अफगानिस्तान तक भी बढ़ाया। मुगलों को भी अपने शासन के दौरान कई बार अपनी राजधानी में स्थानांतरित करने के लिए जाना जाता है। उन्होंने अक्सर आगरा से शाहजहांबाद (दिल्ली) को फतेहपुर सीकरी और यहां तक ​​कि लाहौर तक अपनी राजधानी बदल दी थी। बहादुर शाह जफर अंतिम मुगल सम्राट थे जिन्हें बाद में 1858 में अंग्रेजों ने रंगून (अब यांगून) के लिए निर्वासित किया था।

ब्रिटिश शासन (1858 ईस्वी -1947 ईस्वी)

ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी ने 1757 में प्लासी की लड़ाई में बंगाल सिराजुद्दादौला के नवाब को हराया जब उन्होंने अपने संरक्षकों की आड़ में भारत के विभिन्न प्रांतों पर कब्जा करना शुरू कर दिया था। 1793 में उन्होंने मुगल के बिहार-बंगाल प्रांत पर कब्जा कर लिया और 1857 तक ईस्ट इंडिया कंपनी ने लगभग पूरे मुगल साम्राज्य पर कब्जा कर लिया था। हालांकि आधिकारिक तौर पर भारत में ब्रिटिश शासन 1858 में आखिरी मुगल सम्राट को निर्वासित करने के बाद शुरू हुआ था। ब्रिटिश राज 15 अगस्त 1947 तक चला जब वर्षों के संघर्ष के बाद भारत को आजादी मिली। तब से देश के लोग अपना प्रतिनिधि नामित करते हैं जिसे प्रधान मंत्री कहा जाता है। भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के जवाहरलाल नेहरू भारत के पहले प्रधान मंत्री बने।

अन्य राजवंश जिन्होंने भारत पर शासन किया

विशाल देश भारत (प्राचीन इतिहास में भारतीय उपमहाद्वीप के रूप में मान्यता प्राप्त) पर कई अन्य राजवंशों ने शासन किया है जो अपने विशिष्ट क्षेत्रों में सबसे प्रमुख और शक्तिशाली थे। यहां हम आपको अन्य राजवंशों के बारे में बता रहे हैं जो पुराणों से निकाले गए हैं और वेदों का हिस्सा रहे हैं:

पौरव साम्राज्य (890 ईसा पूर्व – 322 ईसा पूर्व)

पौरव साम्राज्य एक प्राचीन भारतीय राजवंश था जो झेलम (ग्रीक में हाइडस्पेस) के आसपास के क्षेत्र में फैला था जो वर्तमान में पंजाब और पाकिस्तान के रूप में जाने वाले क्षेत्र के हिस्सों के माध्यम से चिनाब और ब्यास नदी तक फैला है। पौरव साम्राज्य के इतिहास में ग्रीक शासक अलेक्जेंडर को भारत को सम्मिलित करने की योजनाओं को समाप्त करने के लिए इतिहास में जाना जाता है। वर्ष 326 ईसा पूर्व में पौराव साम्राज्य के किंग पोरिंग ने सिकंदर को नदी के किनारों पर एक भयंकर लड़ाई में शामिल किया था जिसमें सिकंदर की सेना को भारी नुकसान उठाना पड़ता था।

वाकाटक वंश (250 ईस्वी – 500 ईस्वी)

यह एक ब्राह्मण राजवंश था जो भारत के दक्कन क्षेत्र से उत्पन्न हुआ था। वाकाटक वंश भारत में कला, वास्तुकला और साहित्य के विकास के लिए जाना जाता है। वाकाटक शासकों ने भारतीय उपमहाद्वीप के इतिहास में सबसे स्थिर समय का आनंद लिया और इसलिए उन्होंने कला, साहित्य और वास्तुकला के विकास का नेतृत्व किया। इस अवधि के दौरान विश्व प्रसिद्ध अजिंठा गुफाओं का निर्माण किया गया था। विन्ध्याशक्ति वाकाटक राजवंश के संस्थापक थे और अन्य प्रमुख प्रवासीस प्रथम और द्वितीय, रूद्रसेन प्रथम और द्वितीय, देवसेना और हरिसेना वाकाटक वंश के प्रमुख शासकों में से थे।

पल्लव राजवंश (275 ईस्वी – 897 ईस्वी)

पल्लव राजवंश एक दक्षिण भारतीय साम्राज्य था जो प्रसिद्ध मंदिरों और मूर्तियों के निर्माण के लिए जाना जाता था। इसके अलावा इस राजवंश ने पल्लव लिपि का भी निर्माण किया था। संगम साहित्य “मणिमककलाई” में पल्लव का विस्तृत इतिहास पाया जाता है। महेंद्रवर्मन और नरसिंहवर्मन इस वंश के सबसे प्रमुख शासकों में शामिल थे। पल्लव युग के दौरान ह्यूएन त्सांग, प्रसिद्ध चीनी यात्री, ने भी कांचीपुरम का दौरा किया था जिसे वर्तमान में तमिलनाडु में कांची के रूप में जाना जाता है।

पश्चिमी गंगा वंश (350 ईस्वी  1000 ईस्वी)

पश्चिमी गंगा राजवंश कर्नाटक में एक प्राचीन साम्राज्य था जो दक्षिण भारत में पल्लव राजवंश के कब्जे के कमजोर होने के कारण उभरा। कावेरी नदी के किनारे स्थापित इस वंश ने अपने शासन के दौरान 25 से अधिक राजाओं का राज देखा और उनमें से अविनाता, दुर्विणाता और श्रीपुरुष ऐसे शासक थे जो पूरे क्षेत्र में प्रमुख सामाजिक और सांस्कृतिक विकास पर केंद्रित थे।

मैत्रक वंश (470 ईस्वी – 776 ईस्वी)

वर्तमान में पश्चिमी भारत में गुजरात के रूप में जाना जाने वाले क्षेत्र में मैत्रक राजवंश स्थित था। वल्लभली मैत्रक वंश की राजधानी थी जो बाद में कन्नौज के हर्षवर्धन साम्राज्य की छत्र-छाया के अंतर्गत आई थी।

शशांक वंश (600 ईस्वी – 626 ईस्वी)

शशांक वंश गुप्त वंश के वंशज द्वारा बंगाल में एक प्राचीन साम्राज्य था। राजा शशांक इस राजवंश के एक प्रसिद्ध राजा थे जिन्होंने अपने शासन के दौरान स्वर्ण और चांदी के सिक्के जारी किए थे।

पुष्यभूति वंश (606 ईस्वी – 647 ईस्वी)

पुष्यभूति राजवंश एक प्रमुख दक्षिण भारत वंश था जिसे पुष्यभूति द्वारा स्थापित किया गया था। महान कवि बाना द्वारा लिखित हर्षछित द्वारा दी गई जानकारी के मुताबिक हर्षवर्धन इस वंश के सबसे मजबूत शासकों में से एक थे जिन्होंने अपनी सीमाओं को उत्तर और उत्तर-पश्चिमी भारत तक बढ़ाया।

गुर्जर-प्रतिहार वंश (650 ईस्वी – 1036 ईस्वी)

गुर्जर-प्रतिहार वंश ने पश्चिमी भारत में राजस्थान और गुजरात में चार से अधिक शताब्दी तक शासन किया। गुप्त साम्राज्य के अंत होने के बाद यह साम्राज्य उभरा। बाद में इस साम्राज्य पर महमूद गज़नी ने हमला किया जिन्होंने मंदिर को ध्वस्त कर दिया और भारी मात्रा में सोना लूटा।

कुछ और राजवंश जिन्होंने भारत के कुछ हिस्सों पर शासन किया:

पश्चिमी क्षत्रप (35-405), हर्ष वंश (606-647), राष्ट्रकूट वंश (735-982), पाल राजवंश (750-1174), परमार राजवंश (9वीं से 14वीं सदी), काबुल शाही वंश (500-1026), होसला वंश (1000-1346), पूर्वी गंगा शासक (1078-1434), काकातिया वंश (1083-1323), कलचुरस वंश (1130-1184), असम के सूती वंश (1187-1524), असम के अहोम वंश (1228-1826), बहमनी वंश (1347-1527), माल्वा वंश (1392-1562), रेड्डी राजवंश (1325-1448), विजयनगर साम्राज्य (1336-1646), संगमा राजवंश (1336-1487), सलुवा वंश (1491-1567), तुलुवा वंश (1491-1570), मैसूर का राजवंश (1761-1799), कोचीन का साम्राज्य, मेवार के सिसोदिया राजवंश (वर्तमान में उदयपुर राज्य), सूरी साम्राज्य (1540-1545), सिक्किम के सम्राट, लद्दाख के राजा, डेक्कन सल्तनत (1527-1686), बीजापुर वंश (1490–1686), अहमदनगर सल्तनत (1490-1636), मराठा राजवंश (1674-1881), गोलकोंडा सल्तनत (1518-1687), कोल्हापुर वंश (1779-1947), सिख साम्राज्य (1799-1849), ग्वालियर के सिंदिया, गायकवाड़ राजवंश, हैदराबाद राज्य (1720-1948), भोसले राजवंश (1707-1839), त्रावणकोर (1729-1947), होल्कर वंश (1731-1948) उत्तर-पश्चिमी भारत में विदेशी सम्राट।

“किस-किस ने भारत पर शासन किया” से जुड़े सामान्य प्रश्न:

भारत पर शासन करने वाले रैपिड फायर राउंड प्रश्न और उत्तर: किस किस ने भारत पर शासन किया है उनसे जुड़े सवालों पर यहां संक्षेप में विशिष्ट ज्ञान प्रदान कर रहे हैं:

अकबर के बाद किसने भारत पर शासन किया?

अकबर के बाद उसके बड़े बेटे जहांगीर ने भारत पर शासन किया।

बाबर के बाद भारत पर किसने शासन किया?

बाबर के बाद मुगल साम्राज्य के शासक हुमायूं ने भारत पर शासन किया।

बिंबिसार के बाद किसने भारत पर शासन किया?

अजातशत्रु ने अपने पिता बिम्बिसार को जेल में डाल दिया और मगध के सिंहासन पर जबरदस्ती कब्ज़ा कर लिया।

शाहजहां के बाद किसने भारत पर शासन किया?

औरंगजेब ने अपने पिता शाहजहां को कैद किया और 1618 में जबरदस्ती मुग़ल साम्राज्य के सिंहासन पर कब्ज़ा किया।

धन नंद के बाद किसने भारत पर शासन किया?

महापद्म नंद के नौ पुत्रों में से एक धना नंद नंद साम्राज्य के अंतिम शासक थे जिसे बाद में चन्द्रगुप्त मौर्या ने चाणक्य की सहायता से हरा दिया था।

हरयंक वंश के बाद किसने भारत पर शासन किया?

शिशुनाग द्वारा स्थापित शिशुनाग राजवंश ने हरयंक साम्राज्य का सफाया किया जो मगध में एक अमात्य था। नागदासक हरयंक वंश के अंतिम शासक थे।

किसने दिल्ली सल्तनत की स्थापना की और कौन सा वंश इस सल्तनत के तहत पहली बार उभरा?

दिल्ली सल्तनत की स्थापना तुर्कों द्वारा की गई थी जो मध्य एशिया से आए थे। वर्ष 1206 में कुतुब-उद-दीन-ऐबक द्वारा स्थापित दास वंश दिल्ली सल्तनत के तहत पहला प्रमुख साम्राज्य था।

सैयद वंश के बाद किसने भारत पर शासन किया?

वर्ष 1451 में बहलोल लोदी के नेतृत्व में लोदी राजवंश ने दिल्ली सल्तनत पर कब्ज़ा किया जिस पर तब  सैयद वंश शासन कर रहा था। सैयद वंश के बाद दिल्ली सल्तनत पर लोदी वंश ने शासन किया जिसे 1526 में मुगलों द्वारा प्रतिस्थापित किया गया।

 

चालुक्य साम्राज्य के शासन के दौरान कौन सी भाषाएं विकसित हुईं?

चालुक्य शासन के दौरान, कन्नड़ और तेलगू साहित्य में काफी विकास हुआ।

चेरा साम्राज्य पर कौन सा साहित्य हमें ज्ञान प्रदान करता है?

संगम साहित्य हमें प्राचीन द्रविड़ साम्राज्य पर ज्ञान प्रदान करता है जिसे चेरा साम्राज्य कहा जाता है।

मुगलों के बाद किसने भारत पर शासन किया ?

1857 में पूरे भारत में शासन कर रहे मुगल साम्राज्य को ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी ने अपने पूर्ण नियंत्रण में ले लिया जब उसने राष्ट्रव्यापी सिपाही विद्रोह को सफलतापूर्वक कुचल दिया। इसके अलावा ईस्ट इंडिया कंपनी ने बाद में अंतिम मुगल शासक बहादुर शाह जफर को गिरफ्तार किया और निर्वासित कर दिया। बाद में 1858 में भारत सरकार अधिनियम यूनाइटेड किंगडम की संसद में पारित किया गया और ब्रिटिश क्राउन शासन (ब्रिटिश राज) भारत में औपचारिक रूप से स्थापित हुआ जो 1947 तक जारी रहा।

मुग़ल शासन से पहले किसने भारत पर शासन किया?

मुगलों से पहले भारत पर कई हिंदुओं और मुस्लिम राजाओं ने शासन किया। वर्ष 1526 में काबुल के एक अफगान शासक बाबर ने दिल्ली सल्तनत पर राज कर रहे लोधी राजवंश को पराजित किया और मुगल साम्राज्य की स्थापना की जो बाद में धीरे-धीरे पूरे देश में फैल गया।

किसने भारत से पहले ब्रिटिश शासन किया?

मुगल साम्राज्य ने भारत में ब्रिटिश शासन की स्थापना से पहले भारत पर शासन किया।

भारत पर शासन करने वाले देश?

भारत पर कई विदेशी साम्राज्यों द्वारा लगातार आक्रमण किया गया था लेकिन ब्रिटिश, फ्रांसीसी और पुर्तगाली के अलावा उनमें से कोई भी अन्य देश भारत में अपने ठिकानों को व्यवस्थित करने में सफल नहीं हो सका। पुर्तगाल ने 15वीं शताब्दी में गोवा में अपना शासन स्थापित किया और फिर ब्रिटेन और फ्रांस ने भी भारत में प्रवेश किया। भारत में ब्रिटिश शासन 1947 में खत्म हुआ और 1954 में फ्रांस ने देश छोड़ दिया था और गोवा में पुर्तगाल के शासन को खत्म करने के लिए सरकार को 1961 में सैन्य कार्रवाई करनी पड़ी।

किसने मुगल काल में भारत पर शासन किया?

बीस से अधिक मुगल सम्राटों ने तब तक भारत पर एक के बाद एक शासन किया जब तक ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी ने मुग़ल साम्राज्य को खत्म नहीं कर दिया। इनमें बाबर, हुमायूं, अकबर, जहांगीर, शाहरियर, शाहजहां, औरंगजेब (आलमगीर), आज़म शाह, बहादुर शाह, जहांदर शाह, फरुकसियार, रफी-उद-दाजाज, शाहजहां द्वितीय, मुहम्मद शाह, अहमद शाह बहादुर, आलमगीर द्वितीय, शाहजहां तृतीय, शाह आलम द्वितीय, अकबर शाह द्वितीय और बहादुर शाह जफर शामिल हैं।

बंगाल के अकाल के समय भारत पर कौन शासन करता था?

बंगाल को दो बड़ी विपत्तियों का सामना करना पड़ा पहली बार 1770 में और दूसरी बार 1943 में। भारत 1770 में बंगाल के बड़े अकाल के दौरान ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी के शासन के तहत था जबकि 1943 में जब बंगाल का दूसरा बड़ा अकाल पड़ा तब यह ब्रिटिश क्राउन शासन के तहत था।

किसने मध्ययुगीन काल में भारत पर शासन किया?

मध्ययुगीन काल के दौरान भारत पर कई राजवंशों के द्वारा शासन किया जा रहा था। प्रारंभिक मध्ययुगीन काल में भारत के प्रमुख शासकों में राष्ट्रकूट, चालुक्य, चोल, कलछरी, होयसाल, काकतिया, मध्य प्रदेश के पूर्वी और पश्चिमी गंगा राजवंश शामिल थे। इसके अलावा बाद के मध्ययुगीन काल में विभिन्न राजपूत राज्यों के अलावा देश में दिल्ली सल्तनत, विजयनगर साम्राज्य, अहोम और रेड्डी साम्राज्य का शासन था।

किसने वैदिक काल के दौरान भारत पर शासन किया?

भारत में वैदिक अवधि 1500 से 1100 ईसा पूर्व प्रारंभिक वैदिक अवधियों के अंतर्गत और बाद में 1100 से 500 ईसा पूर्व के बीच वर्गीकृत की जा सकती है। प्रारंभिक वैदिक काल भारत में आर्यों के आगमन से चिह्नित है जबकि बाद में वैदिक काल में कुरु साम्राज्य, पंचला साम्राज्य और विदेहा राज्य इत्यादि का शासन था।

गुप्त साम्राज्य के बाद भारत पर किसने शासन किया?

गुप्त साम्राज्य खत्म हो जाने के बाद भारत पर विभिन्न छोटे राज्यों के शासकों ने शासन किया। उत्तरी भारत में प्रमुख हर्षवर्धन और दक्षिण भारत में चालुक्य, पल्लव, रास्टकुटा, पांड्या मुख्य शासक थे।

किसने पहले भारत पर शासन किया?

मगध में मौर्य वंश की स्थापना करने वाले चंद्रगुप्त मौर्य के पोते सम्राट अशोक भारत के पहले शासक थे जिन्होंने सबसे पहले उत्तर भारतीय राज्यों को एकजुट किया था। बाद में अशोक ने अपनी जीत का परचम लहराया और देश की सीमाओं को ग्रीको बैक्टीरिया साम्राज्य तक बढ़ाया। इसी तरह अशोक ने लगभग पूरे भारतीय उपमहाद्वीप पर कब्जा कर लिया।

किसने 1947 से 1950 तक भारत पर शासन किया?

यद्यपि 1947 में भारत को आजादी मिली लेकिन 1950 में भारत के संविधान तैयार किए जाने तक यह ब्रिटिश राजशाही के अधीन रहा और बाद में गणतंत्र राष्ट्र बन गया।

किसने 150 साल तक भारत पर शासन किया?

कुषाण वंश ने लगभग 150 वर्षों तक भारत पर शासन किया।

किसने 16 साल तक भारत पर शासन किया?

भारत के पहले प्रधान मंत्री जवाहरलाल नेहरू ने 16 से अधिक वर्षों तक भारत पर शासन किया। उन्होंने 15 अगस्त 1947 को कार्यालय ग्रहण किया और 27 मई 1964 को अपनी मृत्यु तक देश पर शासन किया। भारत के प्रधान मंत्री के रूप में उनका पूरा कार्यकाल 16 साल 286 दिन का था।

गुप्त वंश के बाद किसने भारत पर शासन किया?

चालुक्य वंश और वर्धन राजवंश (जिसे पुष्यभूति वंश के नाम से भी जाना जाता है) ने गुप्त राजवंश के पतन के बाद भारत के कुछ हिस्सों में शासन किया। बाद में चालुक्य वंश के पुलकेशिन द्वितीय ने हर्षवर्धन को, वर्धन राजवंश के अंतिम शक्तिशाली और उल्लेखनीय राजा, को हराया।

किसने 1000 ईस्वी में भारत पर शासन किया?

होयसला राजवंश ने भारत में वर्तमान कर्नाटक क्षेत्र में 1000 ईस्वी से 1346 ईस्वी तक शासन किया।

 

किसने 1600 ईस्वी में भारत पर शासन किया?

ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी ने 1600 ईस्वी में भारत पर शासन शुरू किया। हालांकि साथ ही मुगल वंश ने भी देश पर शासन जारी रखा। अंग्रेजों ने 1857 में ब्रिटिश सिपाही विद्रोह को सफलतापूर्वक कुचलने के बाद औपचारिक रूप से ब्रिटिश राज को 1858 में भारत में स्थापित किया था।

पहली शताब्दी में किसने भारत पर शासन किया?

कुषाण साम्राज्य ने पहली शताब्दी में भारत पर शासन किया। कुषाण साम्राज्य को बैक्ट्रियन क्षेत्रों में युजेही द्वारा स्थापित किया गया था और यह उत्तरी भारत में वाराणसी से लेकर अफगानिस्तान तक फैला हुआ था।

 

1400 ईस्वी में किसने भारत पर शासन किया?

तुगलग वंश ने 1400 ईस्वी में भारत पर शासन किया।

किसने भारत पर सबसे लंबे समय तक शासन किया?

पंडियन वंश ने भारत के दक्षिणी हिस्से में 7-8 शताब्दी ईसा पूर्व से 17वीं शताब्दी के मध्य तक शासन किया जिसका मतलब है कि उन्होंने लगभग 2400 साल शासन किया।

लोदी वंश से पहले भारत पर किसने शासन किया था?

सय्यद वंश ने लोदी राजवंश से पहले भारत पर शासन किया।

किसने भारत पर सबसे अधिक शासन किया?

अशोक ने अधिकांश भारतीय उपमहाद्वीप पर शासन किया।

किसने मौर्य के बाद भारत पर शासन किया?

शूंगा वंश ने मौर्य वंश के बाद भारत पर शासन किया। ब्रह्द्रथ, अंतिम मौर्य शासक, को मारने के बाद पुष्यमित्र शुंग ने वर्ष 185 ईसा पूर्व में शुंग राजवंश स्थापित किया था।

महाभारत के बाद किसने भारत पर शासन किया?

महाभारत युद्ध के बाद पांडवों ने अगले 36 सालों तक भारत पर शासन किया।

फारसी राजकुमारी कौन थी जिसने भारत पर शासन किया?

रजिया सुल्तान या राजिया-अल-दीन फ़ारसी भाषी राजकुमारी थीं जिन्होंने दिल्ली सल्तनत पर शासन किया था। वह दिल्ली के सुल्तान के रूप में एकमात्र महिला थी।

कौन कौन रानी हैं जिन्होंने भारत पर शासन किया?

राजिया सुल्तान के अलावा कोई भी रानी दिल्ली सल्तनत पर शासन नहीं कर पाई जिसे देश भर में पावर केंद्र माना जाता था।

 

किसने भारत पर 1800 से 1947 तक राज किया?

ईस्ट इंडिया कंपनी के माध्यम से ब्रिटिश साम्राज्य ने 1700 ईस्वी तक भारत में प्रभुत्व बनाना शुरू कर दिया था और 1720 तक मुगल साम्राज्य पूरी तरह से पतन के स्तर पर पहुंच गया था। 1800 तक भारत में ब्रिटिश शासन ने अपने पंख फ़ैलाने शुरू कर दिए थे और जनता के बीच इसे ब्रिटिश राज के नाम से जाना जाने लगा। इसलिए भारत 1800 से 1947 तक ब्रिटिश शासन के अधीन था।

किसने दक्षिण भारत पर शासन किया?

सातवाहन, चोल, चेरस, चालुक्य, पल्लव, राष्ट्रकूट, काकातिया और होसयाल राजवंश थे जिन्होंने विभिन्न काल में दक्षिणी भारत पर शासन किया था।

सिपाही विद्रोह के बाद किसने भारत पर शासन किया?

 

ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा 1857 में सिपाही विद्रोह को कुचलने के बाद 1858 में ब्रिटिश राजशाही शासन स्थापित हुआ।

किसने भारतीय गांवों पर शासन किया?

ब्रिटिश राज के शासनकाल के दौरान भारतीय गांवों पर जिला कलेक्टरों का शासन था।

ब्रिटिश लॉर्ड्स / वाइसरॉय जिन्होंने भारत पर शासन किया?

भारत में कुल 12 ब्रिटिश लॉर्ड्स / वाइसरॉय थे जिन्होंने भारत के वाइसराय के रूप में शासन किया। इनमें लॉर्ड क्लाइव (1757), लॉर्ड हॉस्टिंग (1772), लॉर्ड रिप्टन (1880), लॉर्ड कर्जन (1899), लॉर्ड मिंटो द्वितीय (1905), लॉर्ड हार्डिंग (1910), लॉर्ड चेंम्सफोर्ड (1916), लॉर्ड रीडिंग (1921), लॉर्ड इरविन (1926), लॉर्ड विल्टिंगटन (1931), लॉर्ड वावेल (1943) और लॉर्ड माउंटबेटन (1947)

जब ईसाई धर्म पश्चिम एशिया में उभरा तब भारत पर कौन शासन कर रहा था?

लगभग साल 1321 के आस-पास ईसाई धर्म पश्चिम एशिया में उभरा था और इस समय दिल्ली सल्तनत तुगलक वंश के शासन के अधीन था।

किसने विश्व युद्ध के दौरान भारत पर शासन किया?

भारत 1914 में विश्व युद्ध के दौरान ब्रिटिश शासन के अधीन था।

कौन से राजा थे जिन्होंने पूरे भारत पर शासन किया?

मौर्य वंश के सम्राट अशोक एकमात्र ऐसे राजा थे जिन्होंने लगभग पूरे भारत पर शासन किया था और बाद में उन्होंने सीमाओं को ग्रीको-बैक्टेरियन साम्राज्य तक विस्तारित किया जो कि अफगानिस्तान के पार है।

किसने भारत पर लगभग 200 साल शासन किया?

ब्रिटिशों ने लगभग 200 साल तक भारत पर शासन किया।

ये भी पड़ सकते है

  • Kaun Kya Hai 2019 की पूरी लिस्ट – Click Here
  • भारत के जलप्रपात – Click here
  • महासागरीय जलधाराये हिंदी में – Trick के साथ- Click Here
  • भारतीय राज्यों के वर्तमान मुख्यमंत्रियों की सूची- Click Here
  • भारत की प्रमुख नदियाँ और उनकी लम्बाई : उद्गम स्थल : सहायक नदी हिंदी में– Click Here
  • विश्व के 10 सबसे बड़े बंदरगाहों की सूची हिंदी में- Click Here
  • उत्तर प्रदेश की प्रमुख जनजातियाँ हिंदी में जानिए- Click Here
  • भारत के महत्वपूर्ण दिन और तिथि की सूची हिंदी में Click Here
  • प्रमुख अंतरराष्ट्रीय सीमाएं हिंदी में- Click Here
  • विश्व के प्रमुख देश एवं उनके सर्वोच्च सम्मान- Click Here
  • भारत की प्रमुख नदी और उनके उद्गम स्थल-Click Here
  • भारत के पुरे राज्यों के मुख्यमंत्रियों को कितनी सैलरी मिलती है- Click Here
  • ये विश्‍व की प्रमुख पर्वत श्रेणियां और उनकी ऊंचाई हिंदी में- Click Here
  • राजस्थान  प्रमुख राष्ट्रीय राजमार्ग- Click Here
  • राजस्थान : जनगणना 2011- हिंदी में- Click Here

जल्द और सही जानकारी पाने के लिए हमें FaceBook पर Like करे 

कैसी लगी आपको ये भारत पर किस किस ने शासन किया  की  यह पोस्ट हमें कमेन्ट के माध्यम से अवश्य बताये और आपको किस विषय की नोट्स चाहिए या किसी अन्य प्रकार की दिक्कत जिससे आपकी तैयारी पूर्ण न हो पा रही हो हमे बताये हम जल्द से जल्द वो आपके लिए लेकर आयेगे|

ये भी पड़ सकते है : Trick के साथ

मुगल वंश के के सभी शासकों की सूचि क्रमवार – Click Here

महापुरुषों के समाधि स्थल – Click Here

महात्मा गाँधी द्वारा संचालित आंदोलन– Click Here

प्रमुख अम्लो के प्राक्रतिक स्त्रोत- हिंदी में –Click Here

भारत की आज तक के विश्व सुंदरियों के नाम व देशClick Here

error: Content is protected !!