ताजमहल के बारे में सबसे अधिक जानकारी हिंदी में

नमस्कार दोस्तो , दोस्तो जैसा कि आप सभी जानते हैं कि आजकल सभी प्रतियोगी परीक्षाओं में ,ताजमहल का महत्व कितना बढ गया है तो इसी बात  को ध्यान में रखते हुए आज की हमारी पोस्ट में हम , ताजमहल के बारे में सबसे अधिक जानकारी की यह पोस्ट के बारे में हम आपको बताऐंगे ! इस पोस्ट में हम आपको  ताजमहल के बारे में सबसे अधिक जानकारी  . के बारे में जानकारी देंगे ! और हम आंगे भी हर दिन  की Ques – Ans. आपको यहां उपलब्ध कराऐंगे ,अगर आपको इसकी डेली पीडीऍफ़ चाहिये जरुर बताये  तो आप हमारी बेबसाइट को रेगुलर बिजिट करते रहिये |

      ताजमहल के बारे में सबसे अधिक जानकारी 


ताजमहल का निर्माण 1632-1653 के समय हुआ था। शाहजहाँ ने इस सुन्दर ईमारत को बनबाने के लिए लगभग 32 मिलियन रूपए खर्च किए जिसे आज अब हम प्यार/मोहब्बत के प्रतीक के रूप में पहचानते हैं। परन्तु इस सुन्दर इमारत का वर्तमान में क्या मुले होता यदि आज इसकी राशि की बात करें तो लगभग इसलि कीमत $ 1 बिलियन के करीब होगी। यदि ताजमहल की इमारत की बात करें तो लगभग 28 प्रकार के कीमती और अर्ध-कीमती पत्थरों का उपयोग ताज को सजाने के लिए किया गया था और उन्हें बहरी देशो से तिब्बत, चीन, श्रीलंका और भारत के कुछ हिस्सों से इकट्ठा किया गया था। यदि ताजमहल के निर्माण की बाते करें तो इसके निर्माण के लिए पूरे भारत और एशिया की सामग्री का उपयोग किया गया था। कहा जाता है कि निर्माण सामग्री के परिवहन के रुप में लगभग 1,000 से अधिक हाथियों का उपयोग किया गया था जो भारी पत्थर को ले जाने में सहायक थे। ताजमहल की मीनार को अगर ध्यान से देखा जाए तो या ये चारो मीनारे सीधे खड़े होने के बजाय बाहर की और थोई झुकी हुई है| इन मीनारों का निर्माण इस तरह से किया गया है की भूकंप और प्राक्रतिक आपदा जैसे मामले में मुख्य मकबरे को इस पर मीनारों के गिरने से क्षतिग्रस्त होने से बचाया जा सके| यह सुनिश्चित करने के लिए कारीगरों के हथियारों की काट-छाँट की जा रही है कि इस तरह का कोई स्मारक फिर से नहीं बनाया गया है, एक ही आदमी के रूप में एक धोखा है- उस्ताद अहमद लाहौरी (ईरान से एक फारसी) जो वास्तुकार टीम के पर्यवेक्षक थे, ने नींव रखी लाल किले का भी। ताजमहल के निर्माण में जिन करिकारो का हाथ था उनके हाथ काटवा दिए गए ताकि यह इस तरह की सुन्दर ईमारत दौबारा कभी और न बन सके. आपको यह भी मालुम होना चाहिए है इस सुन्दर इमारत ताजमहल की नींव यमुना नदी पर रखी हुई है यह और इसकी नींव लकड़ी की बनी हुई है यमुना नदी के कारण लकड़ी को आज तक मजबूत और नम रखा गया है। ताजमहल की दीवारों पर की गई वास्तुकला मुगल डिजाइनों का विस्तार और चित्रण करती है जोकि भारतीय, फारसी और इस्लामी चित्रण परंपरा का संयोजन है। ताजमहल की दीवारों पर सुलेख अधिकतर पवित्र पुस्तक- कुरान शरीफ से लिया गया है। ताजमहल की दीवारों के अलावा, इस तरह का शिलालेख रानी मुमताज महल और सम्राट शाहजहाँ के मकबरे पर भी अंकित हैं। ताजमहल के निर्माण में प्रयोग किए गए कीमती संगमरमर के पत्थर विभिन्न क्षेत्रों राज्यों और देशों से खरीदे व् लाए गए थे। जिसमें से पारदर्शी सफेद संगमरमर मकराना से खरीदा गया था, जेड एंड क्रिस्टल नामक पत्थर चीन एश से आयात किया गया था, पंजाब से जैस्पर, अफगानिस्तान से लापीस लजुली, अरब से कैरेलिया और तिब्बत से फ़िरोज़ा। आपको यह भी मालुम होना चाहिए की ताजमहल कुतुब मीनार (पाँच फीट के अंतर के साथ) से लंबा है। ताजमहल के मुख्य बगीचे में में डैफोडिल, गुलाब और फलों आदि के पेड़/पोधे शामिल हैं जो इसकी सुन्दरता और बढ़ाते है| आपको शायद ये मालुम होगा की ताजमहल पहले बुरहानपुर (मध्य प्रदेश) में बनाया जाना था| जहाँ शाहजहाँ की प्रिय पत्नी मुमताज की मृत्यु बच्चे के जन्म के समय हुई थी परन्तु बुरहानपुर पर्याप्त सफेद संगमरमर की आपूर्ति नहीं हो सकी और इसलिए ताजमहल का निर्माण आगरा में किए जाने का निर्णय लिया गया जोकि वर्तमान में अब पर्यटकों का आकर्षण बन गया है| ताजमहल के अंदर लगभग 60 किलोग्राम वजन का सुंदर दीपक तांबे का बना हुआ है जिसपर लॉर्ड कर्जन का नाम अंकित है यह दीपक शाही दरवाजों में से एक के नीचे रखा गया है, जहाँ पर जाने वालो को इस ताज की पहली झलक मिलती है। ताजमहल के मकबरे में अल्लाह के 99 अलग-अलग नाम सुलेख संबंधी शिलालेखों के रूप में प्रकाशित हैं। शाहजहाँ की अन्य मुख्य पत्नियों और पसंदीदा नौकरों को मकबरों (ताजमहल के बाहर लेकिन उसी परिसर में) में दफनाया गया है। शाहजहाँ और उसकी पत्नी मुमताज़ को ताज महल के भीतरी कक्ष के नीचे एक सादे तहखाने में दफनाया गया है क्यूंकि इस्लामिक परंपरा के अनुसार, कब्रों को सजाया नहीं जाता है। एक अनुमान के अनुसार ताजमहल की सालाना 4-8 मिलियन से अधिक पर्यटक इसे देखने आते हैं, ताजमहल भारत के सबसे अधिक देखे जाने वाले और सुंदर स्मारकों में से एक है, और कभी-कभी ऐसा होता है की एक दिन में इस सुन्दर स्मारक को देखने के लिए लगभग 40-50 हजार से अधिक पर्यटक आते हैं। ताजमहल का ताज समय के उजाले के आधार पर अपना रंग बदलता है इसका अर्थ में, ताज सुबह गुलाबी, शाम को दूधिया सफेद और चांदनी में सुनहरा दिखाई देगा। वर्ष 2007 में यूनेस्को की विश्व धरोहर ने ताजमहल को सात अजूबों में से एक ’के रूप में वर्गीकृत किया, जिसमें 100 मिलियन से अधिक वोट थे। ताजमहल प्रार्थना के लिए शुक्रवार को नहीं खुलता इस दिन यह बंद रहता है| एक प्रसिद्ध तथ्य यह भी है कि, ताजमहल (वर्ष 1632-53 से) के निर्माण में लगभग 22 वर्ष का समय लगा। हालांकि काम पूरी तरह से पूरा नहीं हुआ क्योंकि इसके बाद भी छोटे कार्य जारी रहे। यह माना जाता है कि 1857 के सिपाही विद्रोह के दौरान, कुछ ब्रिटिश सैनिकों ने कब्र की दीवारों से कीमती और अर्द्ध कीमती पत्थरों को हासिल कर लिया था| 20,000 से अधिक मजदूरों का योगदान रहा इस प्रेम के प्रतीक के निर्माण की विशाल परियोजना को बनाने में| वायु प्रदुषण के साथ समय के साथ ताज महल की सफ़ेद संगमरमर पीला होता जा रहा था। इसके अलावा, ताजमहल के ऊपर (इसलिए यह नो-फ्लाई ज़ोन है) किसी विमान के लिए उड़ान भरना मना है। द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान ताज एएसआई (भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण) द्वारा छुपाया गया था। उस समय इसे एक विशाल मचान के साथ कवर किया गया था|

जल्दऔर सही जानकारी पाने के लिए हमें FaceBook पर Like करे

This image has an empty alt attribute; its file name is fb-300x28.jpg

कैसी लगी आपको ये ताजमहल के बारे में सबसे अधिक जानकारी की  यह पोस्ट हमें कमेन्ट के माध्यम से अवश्य बताये और आपको किस विषय की नोट्स चाहिए या किसी अन्य प्रकार की दिक्कत जिससे आपकी तैयारी पूर्ण न हो पा रही हो हमे बताये हम जल्द से जल्द वो आपके लिए लेकर आयेगे|

आप ये भी पड़ सकते है

Kaun Kya Hai 2019 की पूरी लिस्ट – Click Here

भारतीय राज्यों के वर्तमान मुख्यमंत्रियों की सूची– Click Here

भारत की प्रमुख नदियाँ और उनकी लम्बाई : उद्गम स्थल : सहायक नदी हिंदी में–Click Here

विश्व के 10 सबसे बड़े बंदरगाहों की सूची हिंदी में-Click Here

उत्तर प्रदेश की प्रमुख जनजातियाँ हिंदी में जानिए- Click Here

भारत के महत्वपूर्ण दिन और तिथि की सूची हिंदी में- Click Here

प्रमुख अंतरराष्ट्रीय सीमाएं हिंदी में- Click Here

विश्व के प्रमुख देश एवं उनके सर्वोच्च सम्मान-Click Here

भारत की प्रमुख नदी और उनके उद्गम स्थल-Click Here

भारत के पुरे राज्यों के मुख्यमंत्रियों को कितनी सैलरी मिलती है- Click Here

ये विश्‍व की प्रमुख पर्वत श्रेणियां और उनकी ऊंचाई हिंदी में- Click Here

राजस्थान  प्रमुख राष्ट्रीय राजमार्ग-Click Here

राजस्थान : जनगणना 2011- हिंदी में-Click Here

धन्यवाद——-

error: Content is protected !!